मृतका बेटी सुषमा को न्याय दिलाने के लिए दर-दर भटक रही हैं एक माँ

ख़बर शेयर करें

चम्पावत। टनकपुर कोतवाली में एक वाक्या सामने आया था जहाँ दहेज़ के लालची ससुराल वालों पर कड़ी कार्यवाही और अपनी बेटी सुषमा को न्याय दिलाने के लिए एक माँ कोतवाली टनकपुर में ही अपना सर फोड़ने पर मज़बूर हो गई जिसे उसके बेटो और महिला पुलिस कर्मियों ने बचाया वही अब कोतवाली टनकपुर की कार्यवाही पर भरोसा ना जताते हुए मृतका की मांअब डीजीपी का दरवाजा खटखटाने पर विवश है।

मृतका की माँ मीना सागर निवासी शारदा घाट टनकपुर ने बताया उन्होंने अपनी पुत्री सुषमा का विवाह दिनांक 24 नवम्बर 2021 को संजीव कुमार पुत्र मंगली प्रसाद निवासी टांटा गुलाब राय थाना माधौटांडा जिला पीलीभीत के साथ हिन्दू रीति रिवाज के अनुसार किया था ।

शादी में हमने अपनी सामर्थ्य के अनुसार एक पल्सर मोटर साइकिल दो लाख इक्यावन हजार रुपये नकद, सोने की अंगूठी, सोने की चैन एवं घरेलू उपयोग में आने वाला सभी सामान दिया था l पुत्री के विवाह में लगभग 9 लाख रुपये खर्च किये थे, लेकिन शादी के कुछ दिनों बाद उनकी पुत्री सुषमा को ससुराल पक्ष के लोगो द्वारा दहेज में एक कार व मेडिकल एजेन्सी का काम शुरू करने के लिए दो लाख रूपये की मांग की जाने लगी और उनकी पुत्री के साथ मारपीट की जाने लगी।

उन्होंने बताया 2 जून 2022 को सुषमा का पति संजीव कुमार उसे अत्यन्त बीमारी की हालत में टनकपुर छोड़ गया l जिसके बाद हमारे द्वारा बेटी सुषमा को टनकपुर चिकित्सालय में दिखाया गया ज़ब वहा से आराम नहीं मिला। तो खटीमा उधम सिंह नगर स्थित एक अस्पताल में उपचार के लिए ले जाया गया जिसके बाद बेटी को ऋषिकेश एम्स में भर्ती कराया गया, जहाँ लगभग दो महीने इलाज चलाया गया जिसके बाद अपने मायके में बेटी सुषमा ने मौत का सामना करते हुए दहेज़ के लालची समाज को हमेशा के लिए 9 अगस्त 2022 को अलविदा कह दिया ससुराल पक्ष को सूचना देने के बाद भी वहां से कोई नहीं आया यहाँ तक सुषमा के पति ने अपनी पत्नी का अंतिम संस्कार करना भी जरुरी नहीं समझा पीड़ित माँ का आरोप हैं की बेटी के ससुराल वालो ने दहेज़ के लालच में उनकी बेटी को मानसिक प्रताड़ना के साथ गलत दवाइया खिलाकर तिल तिल मरने पर मजबूर कर दिया। वही मृतका की माँ मीना सागर ने कोतवाली टनकपुर पुलिस पर आरोप लगाते हुए बताया हम लोग पिछले एक महीने से कोतवाली में जाकर न्याय की गुहार लगा रहे है, लेकिन पुलिस द्वारा कोई मदद करना तो दूर की बात हमारी रिपोर्ट तक नहीं लिखी गयी थी और हमें डांट डपट कर भगा दिया जाता रहा है वही हमें दुबारा थाने में अपनी शिकायत लेकर आने के लिए मना किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें -  बोर्ड परीक्षा के लिए बनाए गए 1250 केंद्र, 2.59 लाख छात्र-छात्राएं देंगे परीक्षा

वही मीना सागर ने बताया की हमें टनकपुर पुलिस की कार्यवाही पर अब विल्कुल भी भरोसा नहीं हैं हम चाहते हैं की हमारी बेटी को न्याय दिलाने के लिए उच्च अधिकारीयों से जाँच करवाई जाये वही पुलिस पर और आरोप लगाया की हमें टनकपुर पुलिस द्वारा किसी झूठे मुकद्दमे में फसाया जा सकता है अब हम लोग डीजीपी उत्तराखंड के दरबार में न्याय की गुहार लगाने जायेंगे वही पीड़ित माँ बेटी को इंसाफ दिलाने के लिए उत्तराखंड मुख्यमंत्री से लेकर प्रधानमंत्री तक लिखित प्राथना पत्र द्वारा गुहार लगा चुकी हैं। वहीं इस सम्बन्ध सीओ टनकपुर अविनाश वर्मा ने बताया इस मामले में टनकपुर कोतवाली में मुकदमा दर्ज़ कर लिया गया है और तथ्यों के आधार पर जाँच की जा रही हैं और रही बात पीड़ित महिला को थाने से भगाये जाने की तो इस मामले को वेरीफाई करवाया जायेगा। फिलहाल सूबे के मुख्यमंत्री की विधानसभा निवासी बेटी को मौत के बाद न्याय का इंतजार है। जिसकी लड़ाई मृतक विवाहिता की मां व उसके परिजन लगातार लड़ रहे है।अब देखना होगा की डीजीपी के दरबार तक पहुंचे ने पर मृतका के परिजनो को आखिर कब तक न्याय मिल पाता है।

-विनोद पाल

Ad
Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.