About US

दो टुक…

सर्व प्रथम मैं पर्वत प्रेरणा डिजिटल न्यूज पोर्टल की ओर से आपका हार्दिक स्वागत करता हूं।

साथियों, अलग राज्य उत्तराखण्ड बनने के बाद वर्ष 2002 से पर्वत प्रेरणा ने प्रिंट मीडिया में कदम रखा। शुरूआत में मासिक पत्रिका निकाली, इसके बाद वर्ष 2006 से अब तक लगातार साप्ताहिक समाचार पत्र का प्रकाशन होता आ रहा है। बदलते समय के अनुसार हमें भी अपने को बदलना ही था, अब आपके सामने डिजिटल न्यूज सेवाओं के लिए हम और हमारी पूरी टीम तत्पर है। पहाड़ जैसी तमाम जटिल समस्याओं से लेकर हर पल की खबरें हम आप तक पहुंचाने का पूरा प्रयास करेंगे। हम उन खबरों को भी उजागर करने का प्रयास करेंगे, जो समाज के प्रत्येक वर्ग द्वारा अकसर कुछ स्वार्थ के चलते छुपाई जाती है। जिसे भ्रष्टाचार के नाम से भी जाना जाता है।

अलग राज्य उत्तराखण्ड की जो परिकल्पनाएं थी वह राज्य बनने के बीस साल बाद 25 प्रतिशत भी पूरी नहीं हो सकी है। तमाम समस्याएँ आज भी जस के तस ही दिखाई देती हैं। इस प्रदेश में बारी-बारी से राज करने वालों ने केवल अपने हितों का ही ध्यान रखा है। मंहगाई और बेरोजगारी चरम पर है। दिन प्रतिदिन पलायन जोरों से हो रहा है। सुख सुविधाओं के कारण लोग पलायन करने लगे हैं, उत्तराखण्ड के पहाड़ी गांव खाली हो रहे हैं। मैदानी क्षेत्रों में आवादी का जबरदस्त दबाव बड़ रहा हैं परिणाम स्वरूप मैदानी इलाकों की लहलहाते खेतों में कंक्रीट के जंगल दिखाई देने लगे हैं। जमीनों के दाम आसमान छूते आ रहे हैं। पहाड़ के बंजर खेत खलिहानों में जंगली घास उगने लगी हैं। खूबसूरत जगह छोड़कर पलायन की क्या वजह हो सकती है आप भी बेहतर जानते हैं। निश्चित मान लीजिए एक दिन फिर से पहाड़ लौटना ही होगा।

क्या नहीं है इस देवभूमि उत्तराखण्ड में? सम्पूर्ण संसाधनों का भण्डार होने के बावजूद सरकारें कुछ नहीं कर पा रही हैं। कहने को कागजो और जुवान में बहुत कुछ है। परंतु धरातल में कुछ और ही, कभी ऊर्जा प्रदेश बनाने तो कभी आयुष और पर्यटन के नाम पर करोड़ों रूपये पानी की तरह बहा दिये जाते हैं। बावजूद इसके हमारे राज्य की आय नगण्य है। पड़ोसी राज्य हिमाचंल केवल पर्यटन और बागवानी से ही दिन प्रतिदिन तरक्की करता आ रहा है। खैर, पर्वत प्रेरणा डिजिटल न्यूज पोर्टल आप सबके लिए प्रेरणादायी हो, ऐसा हमारा प्रयास रहेगा। “हम बात करेंगे मुददे की, हम बात करेंगे सत्ता की, बात होगी शासन-प्रशासन की, हम बात करेंगे पहाड़ की, और हम आवाज बनेंगे आप सबकी।”

आईए, आप भी हमारे साथ जुड़े, हमें सबस्क्राइब, शेयर अवश्य करें । मजबूत तथ्यों के साथ खबरों की खबर, जन समस्याएं आदि अनेक घटनाएं हमें हमारे व्हाटसप नंबर अथवा हमारी मेल आई में भेज सकते हैं। बने रहिए दुनियां के किसी भी कोने से आप पढ़ते रहिए उत्तराखण्ड सहित देश और प्रदेश की खास खबरें।

सादर!

सुरेश पाठक

(प्रधान सम्पादक)
सम्पर्क करें -
www.parvatprerna.com
WhatsApp No. 9927213408