भ्रष्टाचार मिटाओ उद्यान बचाओ यात्रा शुरू

ख़बर शेयर करें

सामाजिक कार्यकर्ता दीपक करगेती ने रानीखेत से गैरसैंण तक शुरू की काश्तकारों के साथ मिलकर जनहित यात्रा

रानीखेत संवाददाता – सामाजिक कार्यकर्ता दीपक करगेती ने रानीखेत से गैरसैंण तक काश्तकारों के साथ मिलकर जनहित यात्रा शुरू की। जिसमें अनेकों संख्या में काश्तकार उनके साथ इस यात्रा में शामिल हुए।

उन्होंने बताया कि हमारा दुर्भाग्य है कि उत्तराखंड में बड़े पद पर बैठे अधिकारी उद्यानिकी, कृषि में करोड़ों रुपयों का घोटाला कर राज्य खोखला कर रहे हैं लेकिन उत्तराखंड सरकार वास्तविकता से मुंह फेरे हुए है। वहीं निदेशक उद्यान के भ्रष्टाचारों की जांच हेतु किसानों द्वारा सरकार व शासन में शपथ पत्र दाखिल करने के बाद भी अपर सचिव द्वारा किस प्रकार निदेशक से अपने ऊपर लगे आरोपों की जांच करवाने के आदेश दे दिए। जो भ्रष्टाचार में लिप्त उद्यान निदेशक को बचाने में मुख्य भूमिका निभा रहे अपर सचिव पर भी विजिलेंस की टीम ने करोड़ों की अवैध संपत्ति के मामले में मुकदमा दर्ज करवा दिया है।

सामाजिक कार्यकर्ता दीपक करगेती ने आरोप लगाते हुए कहा कि यही निदेशालय में किस प्रकार निदेशालय की छत को बगैर टैन्डर लगाएं लाखों रूपयों का काम अपने चहिते व्यक्ति को दे दिया। इसमें भ्रष्टाचार नहीं है तों क्या है। मैं समाचार पत्रों के माध्यम से मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से निवेदन करना चाहता हूं कि इस प्रकरण की जांच कर दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई करने की कृपा कीजिएगा।

दीपक करगेती ने बताया कि उद्यान निदेशक के भ्रष्टाचारों से प्रदेश को बचाने और उनके द्वारा की गई जनहित, उद्यानिकी के विकास में करोड़ों रुपयों की बंदर बांट से जनता को अवगत करवाने और नियमित रूप से उद्यान निदेशालय चौबटिया में निदेशक को बैठाने हेतु रानीखेत चौबटिया से गैरसैंण तक की यात्रा निकाली जा रही है।

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड का जवान पश्चिम बंगाल के कंचन पारा पोस्ट में हुआ शहीद

वहीं काश्तकारों का कहना है कि हमारे द्वारा जो अदरक का बीज लिया गया था। उसमें हमें बीस किलो अदरक होना बताया गया था, लेकिन जब हमने उसे तोला तो उसमें हमें किसी में चौदह व साढ़े चौदह किलो ही अदरक प्राप्त हुआ। इसी प्रकार एक काश्तकार का कहना है कि जहां हमारे कार्य के लिए सरकार द्वारा हमें पुरस्कार और प्रशस्ति पत्र दिया गया था। वहीं उद्यान निदेशक हमें किसान नहीं होने और फर्जी किसान कह कर पुकार रहें हैं। अगर हम फर्जी किसान होते तों क्या हमें उत्तराखंड सरकार प्रशस्ति पत्र देती।

इस अवसर पर नारायण दत्त जोशी, बलवंत सिंह बोहरा, भगवत बिष्ट, क्षेत्र पंचायत सदस्य राजेन्द्र जोशी, किशोर बेलवाल, रमेश लाल, प्रेम, रोहित, कैलाश असवाल, नवीन असवाल, मयंक तिवाड़ी, कैलाश, कमल भट्ट, जीवन फर्त्याल, योगेश जोशी, राहुल, कमल, ललित तिवाड़ी, मनोज कुमार, मदन राम, इंद्र कुमार, अमित, मोहित, हरीश जोशी, कार्तिक, सहित अनेक काश्तकार उपस्थित रहे।

Ad
Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.