कनिष्ठ सहायक के पद पर नौकरी दिलाने के नाम पर धोखाधड़ी, अभियुक्त गिरफ्तार

ख़बर शेयर करें

पिथौरागढ़। लोक निर्माण विभाग में कनिष्ठ सहायक के पद पर नौकरी दिलाने के नाम पर चार युवतियों से लाखों रूपयों की धोखाधड़ी करने वाले अभियुक्त को कोतवाली पिथौरागढ़ पुलिस ने साइबर सैल की मदद से उद्यमसिंहनगर से किया गिरफ्तार कर लिया है। अभियुक्त इन युवतियों को पैसा वापस मांगने पर जान से मारने की धमकी दे रहा था।

पुलिस के मुताबिक इसी साल 23 मई को साइबर सैल पिथौरागढ़ में ऑनलाइन शिकायत प्राप्त हुई कि खीमानन्द नैनवाल द्वारा पिथौरागढ़ निवासी श्रीमती पुष्पा, श्रीमती सुनीता, श्रीमती ज्योती, श्रीमती प्रगति से पीडब्लूडी में कनिष्ठ सहायक के पद पर नौकरी दिलाने के नाम पर कुल पांच लाख रुपए की धोखाधड़ी की गई है। खीमानन्द द्वारा शिकायतकर्ताओं को 29 नवंबर 2016, फरवरी 2018, मई 2019 को इंटरव्यु हेतु देहरादून भी बुलाया गया परन्तु परीक्षा तिथि रद्द हो जाने का बहाना बनाकर वापस भेज दिया गया। झूठा आश्वासन देकर ठगा गया।

अब फोन पर अपने पैसे व प्रमाण पत्र वापस मांगने पर शिकायतकर्ताओं को जान से मारने की धमकी दे रहा है । तहरीर के आधार पर कोतवाली पिथौरागढ़ में धारा 420/506 भादवि* के अन्तर्गत अभियोग पंजीकृत किया गया।पुलिस अधीक्षक पिथौरागढ़ लोकेश्वर सिंह के आदेशानुसार अभियुक्त की गिरफ्तारी हेतु उपनिरीक्षक बसन्त पन्त के नेतृत्व में टीम गठित की गयी ।

पुलिस टीम द्वारा पता करते हुए साइबर सैल की मदद से 23 जुलाई को अभियुक्त खीमानन्द नैनवाल पुत्र देवी दत्त नैनवाल निवासी नियर हाइडिल गेट तुलसीनगर थाना काठगोदाम को उद्यमसिंहनगर से गिरफ्तार किया गया । अग्रिम वैधानिक कार्यवाही की जा रही है ।पुलिस टीम निरीक्षण बसन्त पन्त,कांस्टेबल बलवन्त सिंह, जरनैल सिंह,साइबर सैल टीम की उपनिरीक्षक प्रियंका इजराल,कांस्टेबल मनोज कुमार विपिन ओली, गीता पवार शामिल थे।

यह भी पढ़ें -  होटल गगनदीप स्वामी पर अनैतिक व अवैध कार्य करने का आरोप

Ad
Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.