Connect with us

उत्तराखण्ड

बीडी पांडे अस्पताल में कैंडल जुलूस निकालने पर भड़के चिकित्सक व कर्मचारी

रिपोर्टर- भुवन सिंह ठठोला

नैनीताल। नगर के बीडी पांडे अस्पताल में मृतक अमित शाह के परिजनों द्वारा बीते दिन अस्पताल प्रबंधन के साथ किये गए दुर्व्यवहार व कैंडिल मार्च निकाल कर अस्पताल बंद करने की दी जा रही धमकी से क्षुब्ध होकर गुरुवार को समस्त अस्पताल प्रबंधन ने अस्पताल सभागार में एकत्रित होकर बैठक आयोजित की जिसमे उन्होबे अराजकत तत्वों के खिलाफ उचित कार्वाही की मांग की है। साथ ही उनकी मांगे पूरी न करने पर पूर्ण रूप से कार्य बहिष्कार करने की चेतावनी दी है।

गुरुवार को सभी डॉक्टरों व स्टाफ द्वारा 3 घण्टे तक कार्य बहिष्कार किया गया जिस से स्वास्थ्य सेवाएं चरमरा गई है अस्पताल में मरीजों की सैकड़ो की संख्या में भीड़ लग गई। कई मरीजो को बैंरग ही घर लौटना पड़ा। नैनीताल शाखा अध्यक्ष एनएस रावत ने बताया कि बीते दिन स्वास्थ सचिव के आगमन पर 50 से 60 अराजकत तत्वों द्वारा अस्पताल प्रबंधन पर लापरवाही बरतने के आरोप लगाए गए जिस से स्वास्थ्य सेवाओं पर बड़ा सवाल खड़ा हो गया है लोगो का बीडी पांडे अस्पताल से विश्ववास उठता जा रहा है। कहा कि बीते दिन अराजक तत्वों द्वारा चिकित्सकी कार्यों में बाधा डाली गई जिस से मरीजों के उपचार में डॉक्टरों को काफी परेशानीयो का सामना करना पड़ा। जिसकी अस्पताल प्रबंधन कड़ी निंदा करता हैं उन पर कड़ी कार्वाही की मांग करता है। इस अमानवीय व्यवहार से अस्पताल सहित स्टाफ डरा हुआ है वह ऐसे माहौल में कार्य करने में असमर्थ है। रात के समय महिलाओ द्वारा अस्पताल में नारेबाजी कर कैंडल मार्च निकाला गया जिस से भर्ती मरीज पूरी रात परेशान रहे। इस बीच अस्पताल में तैनात पीआरडी जवान द्वारा जब कुछ युवको से अस्पताल में शोर शराबा न करने के लिए कहा गया तो उसके साथ भी धक्का मुक्की कर उस पर नौकरी कैसे की जाती है उसे देख लेने की धमकी दी गई है। कुछ लोगो द्वारा उसे मारने के इरादे से अस्पताल के बाहर ही उसका इंतजार किया जा रहा था डर से वह अपने घर पर भी नही गया। इन सभी हरकतों से अस्पताल में डर का माहौल बना हुआ है।

यह भी पढ़ें -  लोकसभा चुनाव की सीटों को लेकर कांग्रेस स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक आज

रावत ने कहा कि 24 घण्टे के अंदर अस्पताल प्रबंधन की मांगे पूरी नही मानी गई तो अस्पताल के समस्त कर्मचारी व डॉक्टर्स कल से 3 घण्टे का बहिष्कार करेंगे। इसके बावजूद भी उनकी मांगों पर विचार नही किया गया तो अस्पताल प्रबंधन पूर्ण रूप से कार्य बहिष्कार करने में लिए बाध्य होगा। इस बीच एमरजेंसी व आईबीटी सेवाएं चलती रहेगी एमरजेंसी में आने वाले मरीजो के लिए चिकित्सक मौजद रहेंगे। डॉ. अनिरुद्ध गंगोला, डॉ. संजीव ख़र्रकवाल ,डॉ. मोनिका कांडपाल, डॉ.एमएस दुग्ताल, डॉ. ममता पन्गाते,डॉ. प्रियांशु श्रीवास्तव,डॉ. दीपिका लोहनी, डॉ.सुरेश सिसौदिया, डॉ. अभिषेक गुप्ता, डॉ. रूचि गुप्ता, डॉ. कोमल गुरुरानी, डॉ. तंनुजा पाल,डॉ. नरेंद्र रावत, डॉ. हर्षवर्धन पंत,डॉ.हिमांशु सरन, डॉ. नेहल रतन, डॉ. देवाशीश आदि मौजूद रहें।

Continue Reading
You may also like...

More in उत्तराखण्ड

Trending News