Connect with us

उत्तराखण्ड

सरोवर नगरी में दुर्गा पूजा महोत्सव शुक्रवार की सुबह कलश यात्रा के साथ शुरु


, नैनीताल। दुर्गा पूजा महोत्सव कमेटी के सहयोग से दुर्गा पूजा महोत्सव शुक्रवार की सुबह से शुरु हो गया है। शोभा यात्रा में नगर के विभिन्न स्कूलों से आए छात्र.छात्राएं कुमाऊनी परिधान में शामिल थे। शुक्रवार की 9 बजे से सुबह नगर के नयना देवी मंदिर में दुर्गा की मूर्तियों को भक्तजनों के समक्ष पूजा के लिए स्थापित कर दिया गया। जिसके बाद भक्तजन मां दुर्गा के दर्शन व पूजन शुरू हो गया। नैना देवी मंदिर से कलश यात्रा के साथ शोभायात्रा शुरू हुई। शोभायात्रा नैना देवी मंदिर से शुरु होकर पंत पार्क से रिक्शा स्टैंड तथा बाजार होते हुए अंत में नैना देवी मंदिर पहुंची। शोभायात्रा में नगर के विभिन्न स्कूलों के विद्यार्थी कुमाऊनी परिधानों में शामिल हुए थे। छोलिया कलाकारों ने भी जमकर शोभायात्रा में कुमाऊनी गीतों के साथ डांस किया। शोभा यात्रा के दौरान दुर्गा पूजा कमेटी के अध्यक्ष चंदन दास, महासचिव त्रिभुवन, मुकुल जोशी, दिनेश भट्ट, ज्योति पांडे, पुजारी तपन चटर्जी, मंजू, सुमन साह, मंजू रौतेला, पूर्व अध्यक्ष सुरेश चौधरी, दीपा शिवराज सिंह नेगी आदि लोग शामिल थे। दुर्गा पूजा महोत्सव में आज शाम 6 बजे डांडिया मुख्य आकर्षण का केंद्र रहेगा। चार दिनो तक चलते वाले दुर्गा पूजा महोत्सव के दौरान खेल मैदान में 300 से अधिक दुकानें भी लगाई गई है। जहां से लोग जमकर खरीददारी कर रहे हैं। महोत्सव के अंतिम दिन 24 अक्टूबर को नगर में मां दुर्गा की मूर्तियों की शोभायात्रा नगर मैं निकाली जाएगी।
विभिन्न धार्मिक अनुष्ठानों से सरोवरनगरी का वातावरण भक्तिमय बना रहा
नैनीताल। शारदीय नवरात्र में यहां नैनीताल व उसके आस पास के मंदिरों में पूजन के लिए भक्तजनों का आना जाना रहा। अन्य दिनों की अपेक्षा यहां मंदिरों में भक्तों की खासी भीड़ रही। विभिन्न धार्मिक अनुष्ठानों से सरोवरनगरी का वातावरण भक्तिमय बना रहा। घोड़ाखाल स्थित गोलू मंदिर में पूरे दिन पूजन के लिए भक्तों का आना लगा रहा है। यहां पूजा अर्चना के लिए लोगों का पहुंचना जारी था। इधर नैनीताल स्थित नयना देवी मंदिर में सुबह से ही भक्तों का तांता लगा रहा। श्रद्धालुओं ने नयना देवी के साथ ही देवी की पूजा भी की। नैनीताल स्थित नयना देवी मंदिर, पाषण देवी मंदिर, गोलू मंदिर, शनिदेव मंदिर, खुर्पाताल वैष्णों देवी मंदिर सहित आस पास के मंदिरों में पहुंच कर लोगों मनौतियां मांगी। उधर भीमताल के आस पास के देवी मंन्दिरों नवरात्र के अवसर पर सुबह से ही भीड़ रही। भक्तों ने प्राचीन देव मन्दिर, काली मंदिर, शीतला देवी, घोड़ाखाल, श्यामखेत गागर, पदमपुरी आश्रम खैरना, सोमवारी महाराज आश्रम खैरना के मंदिरों में बड़ी संख्या मं पहुंचकर नवरात्र में देवी से अपने व अपने परिवार को सुख शान्ति व स्वास्थय सफलता के लिए प्रार्थना की।

Ad Ad Ad Ad Ad Ad
यह भी पढ़ें -  धर्मशिला नारायणा हॉस्पिटल, दिल्ली की तरफ से माह के पहले और तीसरे शनिवार को हल्द्वानी में कैंसर ओपीडी उपलब्ध

More in उत्तराखण्ड

Trending News