आशा एवं आशा फैसिलिटेटरों को पांच महीने से नहीें मिला वेतन

ख़बर शेयर करें

अल्मोड़ा। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अंतर्गत कार्यरत आशा एवं आशा फैसिलिटेटरो को पांच महीने से बेतन न मिलने पर रीठागाडी दगड़ियों संघर्ष समिति के अध्यक्ष प्रताप सिंह नेगी ने आपत्ति जताई।प्रताप सिंह नेगी ने बताया उत्तराखंड के दुर्गम क्षेत्रों की महिलाओं व ग़रीब परिवार की आशा एवं आशा फैसिलिटेटरो को पाच महिने वेतन न मिलने पर अपने दिनचर्या व परिवार का भ्ररण पोषण करने में दिक्कतों का। सामना करना पड़ रहा है। शासन प्रशासन ने इन आशा एवं आशा फैसिलिटेटरो को पांच महीने से बेतन न मिलने पर कोई न कोई समाधान निकाल कर इन मात्र शक्तियों के खातों पैसे डालना चाहिए।

समिति अध्यक्ष प्रताप सिंह नेगी कहा सरकार को आशा कार्यकर्ताओं को जल्द से जल्द वेतन देने के लिए कारवाई करनी चाहिए। अगर आशा कार्यकर्ताओं व आशा फैसिलेटरो ने अपनी समस्यायों के निराकरण हेतु धरना प्रदर्शन या कोई आन्दोलन किया तो समिति के अध्यक्ष प्रताप सिंह नेगी आशाओं के आन्दोलन को समर्थन देंगे।

लंबे समय से परेशान आशा एवं आशा फैसिलिटेटरो ने अपने बेतन के बारे में शासन प्रशासन से गुहार लगाई लेकिन सरकार ने पांच महीने से इन गरीब परिवार की महिलाओं के लिए कोई कारवाई नहीं की जो गलत है।

Ad
Ad
Ad
Ad
यह भी पढ़ें -  विस सत्र में सरकार को घेरने की रणनीति में जुटा है विपक्ष - यशपाल आर्य

Leave a Reply

Your email address will not be published.