Connect with us

उत्तराखण्ड

मिठाई बनाने के साथ-साथ अन्य बीमारियों के काम भी आता है पेठा

उत्तराखंड के पर्वतीय क्षेत्रों में गोबर के खाद के टिल्लों मैं व अपने घरों के आगन के पीछे आगे लगाया जाना वाला पेठा सावन भादो में काफी मात्रा में होता है।औसज से कार्तिक तक ये पेठा पुरी तरह पक जाता है। शुरू में पेठा हरे कलर होता है। जब-जब बडा होता तो तब ये सफ़ेद कलर का हो जाता है।औसज से कार्तिक के महीने पेठा तैयार हो जाता है । पेठा उतराखड राज्य में ही नहीं बल्कि देश के पूर्वी व दक्षिणी राज्यों में पैदा होता है । पेठा को अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग नामों से जाना जाता है । कुम्हड़ा ,भतुआ , कोंहडा,

भुआ,भुच्च,भुचेला आदि नामों से जाना जाता है ।पेठा हमारे देश में मिठाई बनाने का काम आता है । प्राचीन काल से आगरा पेठा हमारे देश में प्रसिद्ध माना जाता है । मिठाई बनाने के साथ-साथ पेठा की सब्जी व पेठा खाने अनेक बिमारियों को रोकथाम होती है । पेठा की सब्जी व पेठा , का सेवन करने से क्या फ़ायदे होते जरा देखिए । पेठा पोषक तत्वों का भंडार है। इसमें कैल्शियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस, आयरन, जिंक व आदि तत्व पाये जाते हैं।पेठा इम्नियूटी को बेहतर करने के लिए इलाज के तौर पर इस्तेमाल किया जाता हैं। प्रताप सिंह नेगी समाजसेवी की प्रस्तुति बताया जाता है पेठा मिठाई बनाने के साथ-साथ हमे अनेक बिमारियों से छुटकारा देने वाला आयुर्वेदिक फल की तरह है । इसके साथ-साथ हमारे घरों में पूजा पाठ व अन्य देवी-देवताओं के अनुस्ठान में पेठा को अपने घर के गेट के सामने रखक इस पेठा फल को थोड़ा काट कर रोई, सिंदूर,अछियत,पिठप्या कुछ भेंट रखकर पूजा या हवन-यज्ञ के बाद गेट दोनों में फोड़ा जाता है।ये एक बलि के बराबर माना जाता है प्राचीन काल से ही।आज भी हर जगह पर ये प्रक्रिया होती रहती है

Ad Ad Ad Ad Ad Ad
यह भी पढ़ें -  श्रील नवयोगेन्द्र स्वामी ने किया जय मॉ बगलामुखी पुस्तक का विमोचन

More in उत्तराखण्ड

Trending News