Connect with us

उत्तराखण्ड

नगर पालिका अल्मोड़ा जन सुविधा केंद्र अब भी चल रही पुराने सिस्टम पर : सामाजिक कार्यकर्ता संजय पांण्डे

अल्मोड़ा । नगर पालिका मे स्तिथ जनसुविधा केन्द्र मे शासन द्वारा स्वीकृत कम्प्यूटर सैट ना लगने से नागरिकों को हो रही असुविधा को सामाजिक कार्यकर्ताओं ने दूर करने की मांग की है। इस सम्बन्ध मे सामाजिक कार्यकर्ता संजय पाण्डे ने कहा है कि वह जिला मुख्यालय स्थानान्तरित होने के समय से ही संघर्ष कर रहे है उन्होने याद दिलाया कि अल्मोड़ा मे जनविरोध के बीच सामाजिक कार्यकर्ता संजय पाण्ड़े व दयाकृष्ण काण्डपाल के नेतृत्व में 25-9-2021 को एक शिष्ट मण्डल तत्कालीन जिलाधिकारी वन्दना सिंह से मिला था जिसमें नगर में एक कैंप कार्यालय खोलने की मांग भी रखी थी। जिस पर उन्होंने मौखिक सहमति भी दी थी। यह तय कि हुआ कि हर बुधवार को जिलाधिकारी महोदय मल्ला महल स्थित पूर्व कार्यालय में वह बैठ कर जन समस्याएं सुनेगी, और ये भी सुनिश्चित किया जायेगा कि उनकी गैर मौजूदगी में उनके मल्ला महल स्थित कार्यालय में एक कर्मचारी एक रजिस्टर में लोगो की समस्याओं को नोट कर के उन्हें जिलाधिकारी तक पहुंचाएंगे।

कुछ महीनों यह चला बाद में इस व्यवस्था को भीं एका एक बंद कर दिया गया,इसी क्रम में पुनः जिलाधिकारी से बात की गई मामले की गंभीरता को देखते हुए मामला कुमाऊं कमिश्नरी तक पहुंचा व साथ साथ देहरादून स्थित उच्चाधिकारियों से भी संपर्क बना रहा जिसके परिणाम स्वरूप अल्मोड़ा में जन सुविधा केंद्र की स्थापना हुई, जिसमें खाता,खतौनी,जीवित प्रमाण पत्र, व इस केंद्र के माध्यम से शासन तक अपनी बात पहुंचा सकते है,इस बीच पता चला की काफी समय से जीवित प्रमाण पत्र भी नही बन रहे थे ,मामला रेवेन्यू बोर्ड पहुंचा तब जाकर मामले का निस्तारण हुआ, नगर पालिका स्थित जन सुविधा केंद्र कई शिकायतें मिलती रहती है जिससे कर्मचारियों को भी बार बार समस्या का सामना करना पड़ रहा था, इन्ही समस्याओं को देखते हुए सामाजिक कार्यकर्ता द्वारा नए कंप्यूटर सिस्टम,प्रिंटर,यू.पी. एस.की डिमांड की गई थी। आज भी नगर पालिका स्थित जन सुविधा केंद्र में शिकायत कर्ता द्वारा स्वयं निरीक्षण किया गया,मौके पर कर्मचारी पुराने सिस्टम पर ही काम करते पाए गए, नए कंप्यूटर सिस्टम की पैकिंग अभी तक खुली ही नही है,जिस उद्देश्य के लिए इनको मंगवाया गया था , जिसको शिकायत मुख्यमंत्री हेल्प लाइन पर की है। जिसमें जनहित में जल्दी से जल्दी चालू करवाने की बात कही गई है,उन्होंने जिलाधिकारी से भी अनुरोध किया है की वे भी समय समय पर इनका स्थलीय निरीक्षण कर जनता और कर्मचारियों की समस्याओं को सुलझाने का कष्ट करें।

यह भी पढ़ें -  भारी बारिश होने के चलते हल्द्वानी रामनगर हाईवे के बीच पुलिया टूटने से रूट डायवर्जन

More in उत्तराखण्ड

Trending News