राष्ट्रीय एकता पर्व संकुल स्तरीय कला उत्सव का केन्द्रीय विद्यालय रानीखेत में किया गया आयोजन

ख़बर शेयर करें

रानीखेत। आजादी का अमृत महोत्सव के अन्तर्गत राष्ट्रीय एकता पर्व संकुल स्तरीय कला उत्सव एक भारत श्रेष्ठ भारत का आयोजन केन्द्रीय विद्यालय रानीखेत में मुख्य अतिथि डॉक्टर माला तिवारी ने सरस्वती पूजा के बीच दीप प्रज्वलित कर कला उत्सव का शुभारंभ किया।

अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि रानीखेत की सुरम्य प्रकृति हमेशा उन्हें आकर्षित करती रही है,यहां से उनका लगाव रहा है। उन्होंने कला उत्सव में प्रतिभाग कर रहे विभिन्न विद्यालयों के प्रति भागी बच्चों को शुभकामनाएं दीं।

प्रधानाचार्य सुनील कुमार जोशी ने कला उत्सव में मुख्य आतिथ्य स्वीकार करने के लिए डॉक्टर तिवारी का आभार व्यक्त किया, साथ ही रानीखेत के प्राकृतिक सौंदर्य का वर्णन करते हुए प्रतिभागी विद्यालयों का स्वागत किया।

बता दें कि कला उत्सव में केंद्रीय विद्यालयों की आठ टीमों ने प्रतिभाग किया जिसमें केंद्रीय विद्यालय पिथौरागढ़, केंद्रीय विद्यालय बीएचईएल हरिद्वार, केंद्रीय विद्यालय धारचूला, केंद्रीय विद्यालय कौसानी, केंद्रीय विद्यालय मुक्तेश्वर, केंद्रीय विद्यालय ग्वालदम, केंद्रीय विद्यालय अल्मोड़ा, केंद्रीय विद्यालय बागेश्वर शामिल रहे। जिसमें आठ केंद्रीय विद्यालयों के 153 विघार्थियों ने विभिन्न प्रतियोगिताओं में प्रतिभाग किया। पारम्परिक लोक गायन में केंद्रीय विद्यालय पिथौरागढ़ और समूह नृत्य में केंद्रीय विद्यालय बीएचईएल हरिद्वार अव्वल रहे।

कला उत्सव में अब तक प्राप्त प्रतियोगिता परिणामों में पारम्परिक गायन में केन्द्रीय विद्यालय पिथौरागढ़ की रश्मि रजवार प्रथम, केन्द्रीय विद्यालय धारचूला के रक्षित गुंज्याल द्वितीय, केन्द्रीय विद्यालय धारचूला की आकांक्षा तिवारी तृतीय रहे। समूह नृत्य में केन्द्रीय विद्यालय बीएचईएल‌ हरिद्वार प्रथम, केन्द्रीय विद्यालय अल्मोड़ा द्वितीय रहे। शास्त्रीय संगीत गायन में केन्द्रीय विद्यालय धारचूला के ध्रुव नागन्याल प्रथम और केन्द्रीय विद्यालय बीएचईएल के कृपा द्वितीय स्थान पर रहे। एकल अभिनय में केन्द्रीय विद्यालय बागेश्वर का दबदबा रहा और पहला व दूसरा स्थान उनके हिस्से में आया।

यह भी पढ़ें -  बारातियों को लेकर लौट रही आल्टो कार नदी में गिरी, चार की मौत, तीन घायल

रिपोर्ट – बलवन्त सिंह रावत