पहाड़ो पर आफत की बारिश जगह जगह मलबा आने से जन-जीवन अस्त व्यस्त

ख़बर शेयर करें

दन्या। तीन दिनों से हो रही लगातार बारिश से जनजीवन प्रभावित है। वही अल्मोड़ा- पिथौरागढ़ हाइवे समेत कई लिंक मोटर मार्ग भी प्रभावित हुए हैं। अल्मोड़ा पिथौरागढ़ हाइवे हमेशा से यात्रियों को परेशान करने वाला बना हुआ है। विशाल चटटानों के नीचे से गुजरने वाले इस हाइवे में सफर काफी खतरनाक रहता है।

रविवार को भी अल्मोड़ा पिथौरागढ़ हाईवे लगभग पांच घंटे बंद रहा। नेशनल हाइवे को चौड़ीकरण की मांग क्षेत्र के लोगो द्वारा कई वर्षो से की जा रही है। बॉर्डर लाइन होने के कारण भी इसका चौड़ीकरण होना बहुत जरूरी है। क्योंकि जब भी दो तीन दिन बारिश बारिश होती है तो टनकपुर-चम्पावत -पिथौरागढ़ हाईवे पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो जाता है जिससे बॉर्डर तक पहुंचने के लिए एक मात्र रास्ता हल्द्वानी अल्मोड़ा पिथौरागढ़ हाईवे ही है।

क्षेत्र में शुक्रवार से चल रही नॉनस्टॉप बारिश से अल्मोड़ा पिथौरागढ़ हाइवे में मलवा आने का सिलसिला जारी है। जहाँ शनिवार की शाम को भी लगभग दो घंटे से अधिक समय तक कई वाहन मार्ग में फंसे रहे।थाना दन्या पुलिस को सूचना मिलते ही हाइवे से जाम हटाने के लिए मौके पर जेसीबी मशीन भेजी गई। जेसीबी मशीन द्वारा मालवा हटाने के बाद हाइवे में पुनः वाहनों का संचालन किया गया।

राज्य सरकार ने मौसम विभाग की जानकारी के बाद रविवार को भी हाईअलर्ट घोषित किया गया था। बारिश के मद्देनज़र ग्राम पंचायतों से लेकर आपदा प्रबंधन विभाग सहित आला अधिकारियों को अलर्ट रहने को निर्देशित किया गया था। उसके बाद भी नेशनल हाईवे में कई यात्रियों को सुबह से ही फसे रहने की जानकारी मिली। क्षेत्र के लोगो द्वारा स्थानीय जनप्रतिनिधियों को फोन कर नेशनल हाइवे मे मलबा आने की जानकारी दी गयी।

यह भी पढ़ें -  दुःखद - घर की छत में फोन से बात करना पड़ा भारी, छत से गिरी युवती की मौत, मची चीख पुकार

कांग्रेस के पूर्व ब्लाक अध्यक्ष पूरन सिंह बिष्ट ने बताया गंगोलीहाट से अल्मोड़ा की ओर आने वाले लगभग दो दर्जन से अधिक वाहनों को रोड मे मलबा आने से कई घंटे उखलगड में ही रुका रहना पड़ा। नेशनल हाइवे के अधिकारियों की घोर लापरवाही ही है जो की 45 किलोमीटर के एनएच को केवल एक जेसीबी मशीन के सहारे छोड़ा गया है। इसके अलावा खेती जटेश्वर मोटर मार्ग में भी कई जगहों पर मलवा आया है जिससे यातायात व्यवस्थाएं चरमरा गई हैं। तहसील भनोली की तहसीलदार बरखा जलाल ने बताया कि हाइवे से मलबे को जेसीबी मशीन से हटवाया जा रहा है जिससे वाहनों का संचालन पुनः शुरू हो जायेगा।

संवाददाता – खजान पाण्डेय