Connect with us

उत्तराखण्ड

पीएम मोदी ने कल्कि धाम में रखी ऐतिहासिक मंदिर की आधारशिला, संभल से प्रधानमंत्री ने दिया ‘सनातन’ संदेश

संभल : आज कल्कि धाम नया इतिहास रच दिया। प्रधानमंत्री के हाथों भगवान श्री विष्णु के दसवें अवतार श्री कल्कि भगवान के भव्य धाम की आधारशिला रखी गयी। महाकाल उज्जैन से आए पंडितों की ओर से स्वस्ति वाचन, मंत्रोच्चार किया गया। प्रधानमंत्री गर्भ गृह में प्रवेश कर अनुष्ठान को छह मिनट में पूर्ण हुआ। प्रधानमंत्री के शिलान्यास स्थल पर पूजा के दौरान आचार्य प्रमोद कृष्णम मौजूद रहे।

मंच से आचार्य ने कहा कि जिंदगी में कभी ऐसे पल आते हैं। जब शब्द खो जाते हैं। वाणी थम जाते हैं। शबरी के पास बेर थे। हमारे पास आपके स्वागत को कुछ नहीं है। पीएम ने मंच पर पहुंचकर हास्य भाव में आचार्य प्रमोद कृष्णम से कहा कि अच्छा हुआ आपने कुछ दिया नहीं। वरना आज वीडियो बन जाते, सुदामा को कृष्ण ने जो दिया वो सुप्रीम कोर्ट चला जाता।

पीएम ने कहा− यह परिवर्तन का नया दौर, हम विकास के साथ विरासत भी संभाल रहे
संभल : पीएम मोदी ने कहा कि भगवान कल्कि के विषय में आचार्य प्रमोद कृष्णम ने गहरा अध्ययन किया। भगवार राम की तरह ही कल्कि का अवतार हजारों वर्षाें की रूपरेखा तय करेगा। आचार्य प्रमोद कृष्णम जैसे लोग अपना जीवन लगा रहे हैं। पिछली सरकार पर हमलावर होते हुए कहा कि ये कहा गया था कि मंदिर बनने पर शांति व्यवस्था बिगड़ जाएगी। लेकिन आचार्य प्रमोद कृष्णम इस सरकार में मंदिर बनाइये। पीएम मोदी ने कहा कि सदियों के बलिदान फलीभूत हो रहे हैं। आज भारत के अमृतकाल में भारत के गौरव और सामर्थय का बीज अंकुरित हो रहा है। चंद्रमा के दक्षिण ध्रुव तक पहुंचने वाले देश बने हैं। आज वंदेभारत, नमो भारत ट्रेन चल रही हैं। बुलेट ट्रेन चलाने की व्यवस्था हो रही है। देश में सकारात्मक सोच और आत्मविश्वास का ज्वार अद्भुत अनुभूति है।

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड में इस वायरस को लेकर किया अलर्ट, केरल में तेजी से फैल रहा यह वायरस

पीएम ने कहा कि राष्ट्र को सफल होने के लिए सामूहिकता से ताकत मिलती है। सबका साथ सबका विकास, सबका विश्वास और सबका कार्य, राष्ट्र के लिए काम कर रहा है। पिछले दस वर्षाें में पक्के घर, शाैचालय, घर में बिजली, पानी के लिए कनेक्शन, 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन, कम कीमत पर गैस, आयुष्मान कार्ड, दस करोड़ किसानों को किसान सम्मान निधि, कोरोनाकाल में हर देशवासी को मुफ्त वैक्सीन, आज दुनिया में भारत के काम की चर्चा हो रही है।

पीएम मोदी ने कहा कि भगवान कल्कि के आशीर्वाद से संकल्पों की यात्रा समय से पहले सिद्धि तक पहुंचेगी। सशक्त और समर्थ भारत के सपने काे पूरा होता देखेंगे।

संभल से पीएम मोदी ने दिया ‘सनातन’ संदेश
संभल : आज शिवाजी महाराज को नमन और श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। पीएम मोदी ने कहा कि यहां भगवान के सभी दस अवतार विराजमान होंगे। दस गर्भगृह होंगे। पीएम ने भगवान के स्वरूपों का जिक्र किया। पीएम मोदी ने कहा कि इसी काल में विश्वनाथ के वैभव को काशी की धरती पर निखरता हुआ देखा है। काशी का कायाकल्य होते देख रहे हैं। महाकाल के महालोक की महिमा देखी है। सोमनाथ का विकास देखा है।

केदार घाटी का पुर्न निर्माण देखा है। विकास भी विरासत भी इस मंत्र को लेकर चल रहे हैं। आज मंदिर बन रहे हैं तो देश में नए मेडिकल कॉलेज भी बन रहे हैं। विदेशों से प्राचीन मूर्तियां भी वापस आ रही हैं। रिकार्ड संख्या में विदेशी निवेश भी आ रहा है। ये परिवर्तन प्रमाण है। समय का चक्र घूम चुका है। एक नया दौर आज हमारे दरवाजे पर दस्तक दे रहा है। ये समय है हम उस आगमन का दिल खाेलकर स्वागत करें। इसलिए लालकिले से देश को विश्वास दिलाया था, यही समय है सही समय है। जिस दिन अयोध्या में राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा हुयी थी, तब कहा था 22 जनवरी से अब नए कालचक्र की शुरुआत हो चुकी है

यह भी पढ़ें -  केदारनाथ धाम पहुंची पहली सेलिब्रेटी शिल्पा शेट्टी

संभल से पीएम मोदी ने दिया ‘सनातन’ संदेश
संभल : आज शिवाजी महाराज को नमन और श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। पीएम मोदी ने कहा कि यहां भगवान के सभी दस अवतार विराजमान होंगे। दस गर्भगृह होंगे। पीएम ने भगवान के स्वरूपों का जिक्र किया। पीएम मोदी ने कहा कि इसी काल में विश्वनाथ के वैभव को काशी की धरती पर निखरता हुआ देखा है। काशी का कायाकल्य होते देख रहे हैं। महाकाल के महालोक की महिमा देखी है। सोमनाथ का विकास देखा है। केदार घाटी का पुर्न निर्माण देखा है। विकास भी विरासत भी इस मंत्र को लेकर चल रहे हैं।

आज मंदिर बन रहे हैं तो देश में नए मेडिकल कॉलेज भी बन रहे हैं। विदेशों से प्राचीन मूर्तियां भी वापस आ रही हैं। रिकार्ड संख्या में विदेशी निवेश भी आ रहा है। ये परिवर्तन प्रमाण है। समय का चक्र घूम चुका है। एक नया दौर आज हमारे दरवाजे पर दस्तक दे रहा है। ये समय है हम उस आगमन का दिल खाेलकर स्वागत करें। इसलिए लालकिले से देश को विश्वास दिलाया था, यही समय है सही समय है। जिस दिन अयोध्या में राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा हुयी थी, तब कहा था 22 जनवरी से अब नए कालचक्र की शुरुआत हो चुकी है।

Ad Ad Ad Ad Ad Ad

More in उत्तराखण्ड

Trending News