ऐसे चली लंबी लड़ाई और फिर, कोर्ट के आदेश पर पुनः संचालित हुआ स्टोन क्रेशर

ख़बर शेयर करें

मोतीनगर।बरेली रोड स्थित हिमालय स्टोन क्रेशर को कुछ माह पूर्व एनजीटी के आदेश के बाद बंद करने के बाद स्टोन क्रशर स्वामी भूपेश अग्रवाल ने सुप्रीम कोर्ट में इसकी लड़ाई लड़ी और आखिरकार सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर हिमालय स्टोन क्रेशर पुनः सुचारू रूप से संचालित होना प्रारंभ हो गया है जिसकी खुशी के चलते ग्राम प्रधान एवं क्षेत्र के तमाम जनप्रतिनिधि और क्रेशर व्यवसाय से जुड़े लोगों ने क्रेशर स्वामी सहित एक दूसरे को मिष्ठान खिलाकर क्रेशर स्वामी को शुभकामनाएं दी हैं। इस दौरान ग्राम प्रधान रमेश जोशी ने कहा कि कुछ लोगों द्वारा एनजीटी में शिकायत किए जाने के बाद क्रेशर को अस्थाई तौर पर बंद कर दिया गया था जिससे कि स्थानीय लोग, क्रेशर से संबंधित व्यवसाय से जुड़े लोगों का रोजगार प्रभावित हो रहा था, जिसके बाद क्रेशर स्वामी भूपेश अग्रवाल द्वारा सुप्रीम कोर्ट में चली लंबी लड़ाई के बाद आखिरकार कोर्ट के आदेश पर क्रेशर पुनः संचालित हुआ है जिससे क्षेत्र में खुशी है। उन्होंने क्रेशर स्वामी को शुभकामनाएं दी है।

साथ ही व्यापारियों को भी बधाई दी है साथ ही कहा है कि जिस क्षेत्र में स्टोन क्रेशर है वह उसी ग्राम सभा के ग्राम प्रधान है ऐसे में यदि किसी को आपत्ति है तो ग्राम प्रधान को अवगत कराएं ताकि समस्या का समाधान हो सके इस प्रकार के कार्य ना करें ताकि क्षेत्र में लोगों का रोजगार प्रभावित हो। उन्होंने कहा कि क्रेशर स्वामी भूपेश अग्रवाल एवं उनके पुत्र क्षेत्र के विभिन्न धार्मिक एवं सामाजिक कार्य में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेते हैं।वही प्रधान सीमा पाठक ने कहा कि यह खुशी की बात है कि सुप्रीम कोर्ट से लड़ाई लड़ कर भूपेश अग्रवाल ने जीत हासिल की है और क्रेशर पुनः संचालित हुआ है इसके लिए वह क्रेशर स्वामी को शुभकामनाएं देती हैं। वहीं समाजसेवी हेम दुर्गापाल ने कहा कि जिन्हें कोई आपत्ति है वह ग्राम सभा के पदाधिकारियों एवं क्षेत्र के गणमान्य नागरिकों, जनप्रतिनिधि या फिर क्रेशर स्वामी से वार्ता कर सकते हैं इस प्रकार से किसी को बेवजह परेशान करना ठीक नहीं, क्रेशर बंद होने से इससे जुड़े व्यापारी और कारोबारियों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है साथ ही रोजगार का अभाव भी पैदा हो जाता है।उनहोंने क्रेशर के सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर पुनः संचालित होने पर क्रेशर स्वामी भूपेश अग्रवाल और कारोबारियों को शुभकामनाएं दी हैं।

यह भी पढ़ें -  अवैध अतिक्रमण को प्रशासन ने किया ध्वस्त, रोते बिलखते रहे परिजन

इधर क्रेशर स्वामी ने इसे जनता की जीत बताते हुए कहा है कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर क्रेशर पुनः संचालित हुआ है इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा कि यदि क्रेशर या उनसे संबंधित किसी व्यक्ति से जिन्हें परेशानी है वह आपस में बैठकर समस्या बता सकते हैं जिसका समाधान करना उनका कर्तव्य भी है मगर इस प्रकार से क्रेशर को बंद कराना क्रेशर से जुड़े व्यापारियों जिन्हें यहां से रोजगार प्रदान होता है उनकी भावनाओं के साथ भी खिलवाड़ है। वह चाहते हैं कि यदि किसी को समस्या हो तो उनसे संपर्क करें ताकि बैठकर किसी भी प्रकार की समस्या का समाधान हो सके। इस दौरान उन्होंने क्रेशर पुनः संचालित होने पर क्षेत्र के ग्राम प्रधान, गणमान्य नागरिकों एवं क्षेत्रवासियों को धन्यवाद प्रेषित किया है।

Ad
Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published.