Connect with us

उत्तराखण्ड

चारधाम यात्रा में 200 मीटर दायरे में नहीं होगा मोबाइल का प्रयोग, यात्रा में रील्स बनाई तो जाएंगे जेल

उत्तराखंड में चार धाम यात्रा में भारी संख्या में भक्तों के आने की वजह से 5 दिन में व्यवस्था काफी चरमरा गई थी। जिसके बाद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मुख्य सचिव को निर्देश दिए है। सीएम धामी ने कहा कि यह सुनिश्चित करें कि अफसर चारों धामों में ही कैंप करें, सचिव स्तर के अधिकारियों को चार धाम यात्रा की मॉनिटरिंग के लिए लगातार कहा जा रहा है। ऐसे में अब शासन ने एक और बड़ा फैसला लिया है। मुख्य सचिव राधा रतूड़ी की ओर से निर्देश जारी किए गए हैं कि चार धाम यात्रा में मंदिरों के 200 मीटर के दायरे में किसी तरह मोबाइल का प्रयोग नहीं होना चाहिए। मोबाइल प्रयोग करने से भी यात्रा में व्यवधान पैदा हो रहा है।

मंदिर के आसपास कोई वीडियो और रील्स नहीं बना पाएंगे और न ही मोबाइल का किसी तरह से प्रयोग कर सकेंगे।लगातार भीड़ बढ़ने की वजह से अब उत्तराखंड शासन ने बड़ा फैसला लिया है। 200 मीटर के दायरे में अगर कोई भी श्रद्धालु मोबाइल का प्रयोग करता हुआ दिखाई देगा, तो न केवल पुलिस उसको रोकेगी। बल्कि हो सकता है कि उसके ऊपर कार्रवाई भी की करेगी। मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने सभी जिलाधिकारियों और पुलिस अधिकारियों को इस बाबत निर्देश दिए हैं कि 200 मीटर के दायरे में किसी तरह का कोई भी मोबाइल श्रद्धालु प्रयोग न कर सकें, वे सुनिश्चित करें। उत्तराखंड की चार धाम यात्रा में लगातार भीड़ कंट्रोल करने के लिए सरकार प्रयास कर रही है।

इसके साथ ही शासन ने कुछ और फैसले भी यात्रा को व्यवस्थित करने के लिए लिए हैं। मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने बताया कि दूसरे प्रदेशों के अधिकारियों से भी अपील की है कि वे अपने-अपने जिलों में इस बात का प्रचार और प्रसार करें कि कोई भी श्रद्धालु चार धाम यात्रा में बिना पंजीकरण के न आए। जिन लोगों का पंजीकरण हो गया है, वे अपनी संबंधित तारीख में ही स्टेट में प्रवेश करें।

यह भी पढ़ें -  नैनीताल जिले में भारी से अत्यधिक भारी बारिश का रेड अलर्ट , नदी नाले से दूर रहने की अपील

More in उत्तराखण्ड

Trending News