पूर्व में काम करने वाले पति-पत्नी ने इस रिजॉर्ट से भागकर बचाई थी अपनी जान

ख़बर शेयर करें

हरीद्वार। अंकिता भंडारी हत्याकांड में बड़ा खुलासा हुआ। जिसमें पूर्व में वनंत्रा रिसोर्ट में काम कर रहे पति पत्नी ने सामने आकर बड़ी बातें बताई है। दोनों पति-पत्नी फिलहाल मेरठ में रहते हैं। देहरादून की इशिता ने विवेक से शादी रचाई थी, उन्होंने बताया कि कैसे उन्हें भागकर जान बचानी पड़ी। दोनों पति-पत्नी जून महीने तक यही काम कर रहे थे मात्र 2 महीनों में वह इतने परेशान हो गए, कि उन्हें रातो रात यहां से भाग कर अपनी जान बचानी पड़ी। दोनों पति-पत्नी होटल मैनेजर के कोर्स के बाद नौकरी तलाश रहे थे। तभी उन्हें पुलकित आर्य के इस रिसोर्ट में स्टाफ रिक्वायरमेंट की जानकारी मिली। दोनों ने यहां पर आकर पुलकित आर्य से संपर्क किया, बोलो कि यहां नौकरी लग गई। जिसके बाद पुलकित आर्य उन्हें इतना परेशान करता था, कि कई बार उन्होंने यहां से भागने की कोशिश की, लेकिन हर बार वह असफल रहे। पुलकित आर्य अपने चंगुल में यहां के स्टाफ को फंसाकर रखता था, जिसके कारण यहां से निकलना मुश्किल हो जाता था।

दोनों पति पत्नी का कहना है कि रिसोर्ट में हमेशा कुछ लड़कियों का आना जाना लगा रहता था, उनके नाम और नंबर पुलकित आर्य कभी नोट नहीं नींद देता था । पुलकित आर्य कुछ वीआईपी लोगों को लेकर आता था जिसके लिए वह लड़कियां मंगाई जाती थी। साथ ही दोनों पति पत्नी ने बताया कि रिसोर्ट में शराब तो आती ही थी। उसके अलावा अन्य नशीली चीजें भी मंगाई जाती थी जैसे सुल्फा, गांजा और अन्य नशीली चीजें भी मौजूद रहती थी। यह सारा इंतजाम पुलकित आर्य के वीआईपी दोस्तों के लिए की जाती थी।

यह भी पढ़ें -  एक्साइज इंस्पेक्टर बने बिंदुखत्ता के सचिन, पहले ही प्रयास में पाई सफलता

इशिता ने बताया कि कुल कितने मेरे पति से कहा अपनी पत्नी को रूम में भेज दो, अब हम दोनों को बहुत अजीब लगा। उन्होंने मुझसे जबरदस्ती रूम में खाना लगवाने की जीद भी की थी। उस वक्त पुलकित आर्य शराब के नशे में था, कि मैं वहां नहीं गई इस बात से पुलकित बेहद नाराज हुआ।जो लड़कियां दूसरे कस्टमरों के लिए बुलाई जाती थी। उनके साथ पुलकित भी इंजॉय करता था।

दोनों पति-पत्नी ने बताया कि जब उन्होंने परेशान होकर पुलिस को फोन किया तो यह जानकारी पता लगी कि यह पुलिस चित्र नहीं है यह राजस्व क्षेत्र है जिसके बाद हमने पटवारी को फोन किया पटवारी ने यहां पर आकर उल्टा हमें ही धमकाया साथ ही पटवारी ने इस बात की भी हिदायत दी, कि अगर यहां ज्यादा तेज बनने की कोशिश करोगे तो उन्हें अंजाम भुगतने होंगे। आगे उन्होंने यह भी बताया कि पटवारी अमूमन यहां पर कई बार रात और दिन में आया करता था पुलकित आ रही के पटवारी और उससे जुड़े हुए लोगों से अच्छे संबंध थे।