Connect with us

उत्तराखण्ड

महाराज ने विभागीय अधिकारियों के साथ ली समीक्षा बैठक

हल्द्वानी। मंत्री सतपाल महाराज ने सर्किट हाउस काठगोदाम में लोक निर्माण, सिचाई, पंचायती राज, लघु सिचाई एवं पर्यटन विभागों के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। सर्किट हाउस काठगोदाम में लोक निर्माण विभाग की समीक्षा के दौरान मंत्री महाराज ने कहा कि लोनिवि द्वारा जल्द ही पब्लिक के लिए सडक मार्गों की स्थित के लिए एप 15 मई तक लांच किया जायेगा।

इस एप के माध्यम से आम जनमानस के साथ ही जनप्रतिनिधि अपने क्षेत्रों की सडक मार्ग के गड्ढों की फोटो अपलोड कर सकते है। इसके उपरान्त लोनिवि विभाग के अधिकारियों द्वारा एप के माध्यम से सम्बन्धित क्षेत्र के सडक मार्ग के लोकेशन से अधिकारी अवगत होने के उपरान्त सडक मार्ग को गड्ढा मुक्त किया जायेगा। इसके पश्चात सम्बन्धित के द्वारा सडक गड्ढा मुक्त होने पर फोटो अपलोड किया जायेगा।

इस एप के द्वारा जहां कार्यों में पादर्शिता आयेगी वही सूचनाओं का आपदा-प्रदान के द्वारा सडक मार्ग की स्थिति पता चलेगी तथा समाधान भी शीघ्र होगा। उन्होंने लोनिवि के अधिकारियों से कहा कार्यों में गुणवत्ता का विशेष ध्यान दिया जाए कोताही होने पर सम्बन्धित अधिकारी के खिलाफ कार्यवाही अमल में लाई जायेगी।

• पर्यटन विभाग की समीक्षा में उन्होंने कहा कि प्रदेश मे पर्यटन उत्सव मनाया जाए जिससे हमारी संस्कृति के साथ ही सहायता समूहों द्वारा लोकल उत्पादों को बाजार मिल सकेगा।

इस प्रकार के पर्यटन उत्सवों से जहां हमारी पर्यटन से आर्थिकी मजबूत होगी वही लोकल उत्पादों के द्वारा लोगों को रोजगार की अपार सम्भावनाये बढ़ेंगी। उन्होने कहा साहसिक पर्यटन की गतिविधियों पर सुरक्षा की दृष्टि से विशेष ध्यान दिया जाए, सुरक्षा के सभी नियमों का अनुपालन किया जाए ताकि दुर्घटनाओं से बचा जा सके। उन्होंने कहा प्रदेश के सभी होम स्टे का पर्यटन विभाग द्वारा पंजीकरण अनिवार्य है। होम स्टे स्वामी होम स्टे के दीवारों के सौन्दर्यीकरण हेतु कुमाऊंनी शैली के पारम्परिक कलाकृतियों के द्वारा होम स्टे को सुसज्जित कर सकते है।

यह भी पढ़ें -  सीएम धामी ने नई दिल्ली के निर्माणधीन उत्तराखंड निवास का निरीक्षण किया, दिखेगी पहाड़ की शैली की झलक

• उन्होंने कहा पंचायती राज को सशक्त करने के लिए कार्य किये जा रहे है केन्द्र सरकार द्वारा 242 लाख की धनराशि पंचायतों को सशक्त करने हेतु आवंटित की है। उन्होंने कहा पंचायतों को आपदा एवं भूकम्प के लिए गांव-गांव जाकर जनजागरूक अभियान चलाया जायेगा। उन्होंने कहा प्रदेश आपदा जोन 4 व 5 में आता है इसलिए हमें पंचायतों को और सशक्त करने की आवश्यकता है।

• सिचाई विभाग समीक्षा के दौरान उन्होंने अधिकारियों से कहा कि पर्वतीय क्षेत्रों जिन स्थानों पर नदियों में मलबा आने से नदी का रूट प्रभावित होता है तथा इससे आपदा आने की सम्भावना होती है। इस हेतु अधिकारी इस प्रकार की समस्या हेतु रीवर चैनालाइजिंग के साथ ट्रेनिंग कार्यक्रम करें ताकि नदियों के द्वारा भविष्य आने वाली आपदा जैसी समस्याओं से समाधान होगा।

समीक्षा के दौरान विधायक सरिता आर्या, रामसिंह कैडा, जिलाध्यक्ष प्रताप बिष्ट, जिलाधिकारी धीराज सिंह गर्ब्याल, एसएसपी पंकज भटट, मुख्य विकास अधिकारी संदीप तिवारी, प्रबन्ध निदेशक केएमवीएम विनीत तोमर, महाप्रबन्धक एपी बाजपेयी, अपर जिलाधिकारी अशोक जोशी, उपजिलाधिकारी मनीष कुमार, अधीक्षण अभियंता सिचाई संजय शुक्ल, सिचाई आरपी सिह, अधिशासी अभियंता लोनिवि अशोक चौधरी, सिंचाई केएस बिष्ट, लघु सिंचाई जेडी सिंह, सहायक अभिंयता आरके पटेल, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी रश्मि पंत, जिला होम्योपैथिक अधिकारी मीरा हृयांकी, एडीएसटीओ कमल मेहरा के साथ ही विभागीय अधिकारी एवं जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।

Continue Reading
You may also like...

More in उत्तराखण्ड

Trending News