लड़की पैदा होने पर ससुरालियों ने की विवाहिता की दुर्दशा भाइयों ने जान बचाने के लिए उठाया यह कदम

ख़बर शेयर करें

धर्म नगर हरिद्वार से एक सनसनीखेज मामला सामने आया है जिसमें हरिद्वार के कोतवाली रानीपुर क्षेत्र ब्रह्मपुरी में शादी कर आई एक विवाहिता को लड़की पैदा होने पर ससुरालियों ने विवाहिता की दुर्दशा कर दी जिसके चलते मजबूरन बहन की जान बचाने को भाइयों ने अस्पताल में भर्ती करवा कर अपनी बहन की जान बचाई है ।

प्राप्त जानकारी के अनुसार कोतवाली रानीपुर के क्षेत्र ब्रह्मपुरी में अपने सपनों का संसार बसाने के लिए आई एक विवाहिता किस सब खुशियां उस वक्त बर्बाद हो गई जब उसने एक बेटी को जन्म दिया घर में बेटी का जन्म होने के बाद पूरा परिवार विवाहिता की अनदेखी करने लगा जबकि विवाहिता को बेटी सरकारी अस्पताल में बड़े ऑपरेशन से हुई थी विवाहिता के परिजनों का आरोप है बड़े ऑपरेशन से बच्चा पैदा होने के बाद किसी भी महिला को कम से कम डेढ़ से 2 महीने बेड रेस्ट की आवश्यकता पड़ती है लेकिन विवाहिता को अपने लिए अपनी जरूरतों का सामान खुद उठकर जुटाना पढ़ रहा था। जिसके चलते महिला के ऑपरेशन के गांव खुल जाने से उन में इन्फेक्शन हो गया जिससे विवाहिता की जान पर बन आई जब विवाहिता के परिजनों को इस बात का पता चला तब विवाहिता के भाइयों ने अपनी बहन को ससुराल से लाकर हॉस्पिटल में भर्ती कराया। जिससे विवाहिता की जान बच सकी विवाहिता के परिजनों का यह भी आरोप है कि जिस कंडीशन में विवाहिता को ससुराल से लाया गया उस वक्त हालत इतनी नाजुक थी कि विवाहिता की मौत भी हो सकती थी इन सभी से बचने के लिए ससुराल पक्ष के लोगों ने विवाहिता के परिजनों पर थाना सिडकुल में झूठा मुकदमा दर्ज करवा दिया उक्त मामले को लेकर डॉक्टरों से जब वार्ता की गई तो डॉक्टर का कहना है कि जिस वक्त मरीज को लाया गया ऑपरेशन की दो परतें खुल चुकी थी जिनमें बस बन चुकी थी अगर 24 घंटे और विवाहिता को ना लाया गया होता तो महिला की इंफेक्शन फैलने से जान भी जा सकती थी।