हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं ने हिमालय पुत्री नंदा-सुनंदा को दी विदाई

ख़बर शेयर करें

अल्मोड़ा। एक सितंबर से शुरु हुआ नन्दा देवी महोत्सव का आज विधि विधान के साथ समापन हो गया है। कुमाऊं की कुलदेवी और हिमालय पुत्री नंदा-सुनंदा की ससुराल के लिए विदाई कर दी गई। मां को विदाई देने के लिए बड़ी तादाद में श्रद्धालु यहां पहुंचे। मां के दर्शन और विदाई के लिए नंदा देवी मंदिर परिसर श्रद्धालुओं से पट गया है। इस दौरान हजारों की संख्य में भीड़ लगी रही।

बुधवार को नंदा देवी मंदिर में स्थापित मां नंदा सुनंदा की प्रतिमाओं के दर्शन के लिए श्रद्धालुओं का तांता रहा। इस दौरान राज परिवार से युवराज नरेन्द्र चन्द्र सिंह ने वैदिक मंत्रोच्चार के साथ देवी पूजन कराया।

डोला भ्रमण के रास्ते पर महिलाएं फूल अक्षत चढ़ाकर बेटी की तरह मां को विदाई दे रही हैं। विदाई का माहौल बिल्कुल वैसा ही भावुक कर देने वाला है। जैसा घर की बिटिया की विदाई का ‌क्षण होता है। नगर भर में विभिन्न स्थानों पर मौजूद लोगों ने पुष्प वर्षा कर डोले का अभिनंदन कर रहे है।

शोभा यात्रा नंदा देवी मंदिर से शुरू होकर लाला बाजार, बंसल गली, माल रोड होते हुए ड्योडीपोखर तक पहुंचेगी। तल्ला महल में पुरोहितों द्वारा मां की शोभा यात्रा की आरती उतारी जाएगी। इसके बाद मां का डोला सीढ़ी बाजार, कचहरी बाजार, थाना बाजार होते हुए दुगालखोला स्थित डोबा नौला पहुंचेगा। यहां पर मां नंदा.सुनंदा की मूर्ति का विधिवत विसर्जन किया जाएगा।

शोभा यात्रा में शामिल लोगों में भारी उत्साह है। लोग मां नंदा सुनंदा के जयकारे लगाते हुए चल रहे हैं। मां की विदाई में शहर समेत आसपास के इलाकों से श्रद्धालुओं का सैलाब उमड़ आया है। शोभा यात्रा के पीछे दूर-दूर कर श्रद्धालु ही नजर आ रहे है।

यह भी पढ़ें -  दुःखद- लंबे समय से जिंदगी और मौत से लड़ रही पत्रकार गोपाल बोरा की पत्नी राधा का निधन

रिपोर्ट-नवीन बिष्ट/छाया-नीरज भट्ट

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad
Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *