ओखलकांडा के आंदोलनरत ग्रामीणों ने दी चेतावनी, पीडब्ल्यूडी कार्यालय में तालाबंदी का ऐलान

ख़बर शेयर करें

हल्द्वानी। 3 नवंबर पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार ओखल कांडा विकास संघर्ष समिति के एवं पूर्व दर्जा राज्यमंत्री हरीश पनेरु के नेतृत्व में आज दूसरे दिन बुद्ध पार्क में चल रहे अनिश्चितकालीन धरने को उग्र करने हेतु लोक निर्माण विभाग में तालाबंदी करने का निर्णय लिया गया।

लेकिन इसी बीच धरना स्थल पर पहुंचे लोक निर्माण विभाग के अधीक्षण अभियंता नैनीताल राजेंद्र सयाना, अधिशासी अभियंता भवाली अशोक कुमार पुंडीर, अधिशासी अभियंता हल्द्वानी अशोक कुमार, सहायक अभियंता बीएस गिरी, सहायक अभियंता मनोज पांडे, सहित तमाम अवर अभियंता एवं पीडब्ल्यूडी विभाग के कर्मचारी पहुंचे। अगर आंदोलन कर रहे ग्रामीणों से वार्ता की जिसमें अधीक्षण अभियंता लोक निर्माण विभाग द्वारा बुद्ध पार्क धरना स्थल पर सभी सड़कों को अति शीघ्र कार्य प्रारंभ करने का आश्वासन दिया गया है।

4 नवंबर 2022 काठगोदाम सेमलिया बैंड मोटर मार्ग में अनिवार्य रूप से मत कर प्रारंभ करने का वचनबद्ध आश्वासन दिया तथा अन्य सड़कों को आगामी 15 दिनों के अंदर पूरा करने का आश्वासन दिया गया तब जाकर आक्रोशित ग्रामीण शांत हुए अधीक्षण अभियंता द्वारा वार्ता के लिए आमंत्रित करने पर सहमति जताई। जिस पर लोक निर्माण विभाग डाक बंगले में आंदोलनकारी प्रतिनिधिमंडल लोक निर्माण अधिकारियों द्वारा विस्तारपूर्वक वार्ता की गई। जिसमें निर्णय लिया गया कि उक्त मांगें सभी जायज है एवं कुछ सड़कों पर शासन से धन न मिलने का कारण काम होना संभव नहीं है। इसलिए 15 दिन के अंदर किसी भी हाल में सारी मांगों को पूरा करने के क्रम में काम पूरा कर लिया जाएगा।

जिस पर अधीक्षण अभियंता ने दोबारा अनुरोध किया कि अवधारणा 15 दिन के लिए स्थगित किया जाए जिस पर ग्रामीणों ने एवं विकास समिति ने सहमति जताते हुए 15 दिनों के लिए आंदोलन स्थगित करने का निर्णय लिया। आंदोलनकारियों ने नियुक्त मार्गों पर लिखित व मौखिक रूप से आश्ववासन देते हुए कहा कि आगामी 20 नवंबर तक समस्त मार्गों का साड़ी कटान अन्य कार्य प्रारंभ नहीं किया गया। तो 20 नवंबर से पीडब्ल्यूडी विभाग में तालाबंदी कर जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ थाने में लिखित तहरीर दी जाएगी।

यह भी पढ़ें -  शूटिंग के बहाने दुष्कर्म की कोशिश, बनाई अश्लील फिल्म, जानिए पूरा मामला

इस अवसर पर पीडब्ल्यूडी विभाग की ओर से इंजीनियर राजेंद्र सयाना, अधीक्षण अभियंता नैनीताल मदन मोहन पुंडीर, अधिशासी अभियंता भवाली इंजीनियर अशोक कुमार, अधिशासी अभियंता हल्द्वानी इंजीनियर मनोज पांडे, बीएस गिरी विभाग की ओर से थे। अलका संघर्ष समिति की ओर से पूर्व राज्य मंत्री एवं संरक्षक हरीश पनेरु, समिति के अध्यक्ष मोहन सिंह चौहान, सचिव पीसी शर्मा, डूंगर सिंह मेहरा, कोषाध्यक्ष कमल शर्मा, प्रवक्ता हरिचंद सिंह मेहरा, टीकम सिंह बोरा, टीकम सिंह मेहरा, नवीन पनेरु, मनोज पनेरु, अश्विनी मासी, नवीन खेड़ा, नरेंद्र गुनिया, प्रकाश माली, सुरेश चंद्र भट्ट, चंद शेखर पनेरु, मनोज पनेरु, केडी वाली कैलाश भट्ट, नित्यानंद, नारायण सिंह मटियाली, लक्ष्मण सिंघानिया, धारा सिंह मेहरा, के एन शर्मा, मनीराम, नवीन चंद्र लाल, श्याम सिंह मेहता, कीर्ति पनेरु, रवि कुमार सिंह, सहित सैकड़ों ग्रामीण एवं जनप्रतिनिधियों ने धरने में भाग लिया एवं वार्ता की आंदोलन के सफल आयोजन के लिए पूर्व दर्जा राज्यमंत्री हरीश पनेरु ने सभी का आभार व्यक्त करते हुए काकी क्षेत्र की किसी भी प्रकार की अन्याय के खिलाफ लड़ाई ओखल कांडा संघर्ष समिति हमेशा लड़ने को तैयार रहेगी।

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad
Ad
Ad
Ad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *