Connect with us

उत्तराखण्ड

मलबा आने से काठगोदाम-हैडाखान मार्ग बाधित, सैकड़ों गांवों का संपर्क कटा

संवाददाता शंकर फुलारा

हल्द्वानी। काठगोदाम-हैड़ाखान मार्ग में आज सुबह मलबा आने से बाधित हो गया है जिससे भीमताल, ओखल कांडा, चंपावत को जोड़ने वाले सैकड़ों गांव का संपर्क हल्द्वानी से प्रभावित हुआ है। ओखलकांडा ,चंपावत से रोजाना आवागमन करने वाले वाहनों को भी असुविधा का सामना करना पड़ रहा है, उन्हें धारी होते हुए लंबे मार्गों से जाना पड़ रहा है।

जिससे लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है और हल्द्वानी से ओखलकांडा, भीमताल व चंपावत में आने जाने वाले कर्मचारियों के सामने भी आवागमन की समस्या खड़ी हो गई है जिससे लोग काफी परेशान नजर आए।

काठगोदाम हेड़ा खान मार्ग को प्रभावित हुए 6 माह से भी ज्यादा का समय बीत चुका है लेकिन अभी तक कोई स्थाई समाधान नहीं निकाला गया है यहां पर मलबा आने से बार-बार मिट्टी को हटाकर आवागमन सुचारू किया जा रहा था आज सुबह पहाड़ी से एक बड़ा हिस्सा हेड़ा खान काठगोदाम मार्ग में आ गया जिससे सुबह हल्द्वानी से भीमताल ओखलकांडा और चंपावत में ड्यूटी करने वाले सरकारी कर्मचारियों के सामने भी बड़ी समस्याओं

का सामना करना पड़ा।

भीमताल ओखल कांडा ब्लॉक के साथ ही चंपावत के लोगों को भी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है
।काठगोदाम हैड़ाखान, खनस्यू, पतलोट के साथ चंपावत के सीमावर्ती गांव को जोड़ने वाला मार्ग होने से लोगों का आवागमन प्रभावित हुआ है।

6माह से भी अधिक का समय बीत जाने के बाद अभी तक स्थाई समाधान न निकल पाने से ग्रामीणों में काफी आक्रोश है।

स्थानीय ग्रामीणों का कहना है कि ही लोक निर्माण विभाग अभी तक समाधान नहीं निकाल पाया है अगर बरसात आएगी तो काठगोदाम हैड़ाखान, खनस्यू, पतलोट और चंपावत के समीपवर्ती गांव को जोड़ने वाले मार्ग का संपर्क कटने से लोगों के सामने बहुत बड़ी समस्या खड़ी हो जाएगी।

यह भी पढ़ें -  वैशाखी /मेष संक्रांति पर विशेष

काठगोदाम हेड़ा खान कि मध्य रहने वाले ग्रामीणों में काफी आक्रोश है और स्थानीय ग्रामीण जनप्रतिनिधियों से खासे नाराज हैं। स्थानीय लोगों का कहना है कि अब ग्रामीणों को मिलकर आंदोलन की रणनीति बनाई जाएगी।

Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad Ad

More in उत्तराखण्ड

Trending News