Connect with us

Uncategorized

18वीं उत्तराखण्ड विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी कांग्रेस यूओयू में

फोटो—कुलपति प्रो. ओपीएस नेगी व महानिदेशक प्रो. दुर्गेश पंत।

हल्द्वानी। उत्तराखण्ड राज्य विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद (यूकॉस्ट) द्वारा उत्तराखण्ड मुक्त विश्वविद्यालय के सहयोग से 18वीं राज्य विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी कांग्रेस 2024 का आयोजन 8 व 9 फरवरी 2024 को हल्दवानी में किया जा रहा है। जिसमें देशभर से शिक्षाविद् व शोधकर्ता भागीदारी करेंगे।
उत्तराखण्ड मुक्त विश्वविद्यालय में आयोजित इस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी कांग्रेस को लेकर शुक्रवार को यूकॉस्ट के महानिदेशक प्रो. दुर्गेश पंत ने यूओयू के कुलपति प्रो. ओपीएस नेगी के साथ विस्तृत विचार-विमर्श किया। इस दौरान उन्होंने इस कार्यक्रम को पूर्णरूप से सफल बनाने के लिए कई आवश्यक निर्णय लिए। दो दिवसीय इस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी कांग्रेस का विषय “भारतीय ज्ञान विजन परंपरा विश्व शांति और सद्भाव के लिए” रखा गया है। जिसको दो भागों में आयोजित किया जायेगा, जिसके प्रथम भाग को वैदिक विज्ञान कांग्रेस व द्वतीय भाग में विज्ञान कांग्रेस हेतु रखा गया है। इस दौरान राज्य में स्थापित विश्वविद्यालयों, विद्यालयों, गैर सरकारी संगठनों एवं शोधकर्ताओं द्वारा विभिन्न विषयों पर शोधपत्र प्रस्तुत किये जाएंगे।
यूकॉस्ट व यूओयू द्वारा आयोजिक इस कार्यक्रम को लेकर प्रो. ओपीएस नेगी व प्रो. दुर्गेश पंत ने बताया कि विज्ञान कांग्रेस में उत्तराखण्ड के अलाव देश के अनेक स्थानों से शिक्षाविद् भागीदारी करेंगे। जो पारंपरिक ज्ञान व आधुनिक विज्ञान के बीच की खाई को कैसे पाटा जाएं इस पर गहन मंथन करेंगे, जिससे कि नये विचारों का उदर हो सके। उन्होंने बताया कि इस दौरान आयोजन स्थल के पास लगभग सौ से अधिक विभिन्न स्टॉल व प्रदर्शनी भी लगायी जाएंगी, यह भी मुख्य आकर्षण का केन्द्र रहेगी। साथ ही स्कूली बच्चों की विविध प्रतियोगिताएं आयोजित करा कर उनकी प्रतिभा को आगे बढ़ाया जायेगा।

                                                -राजेन्द्र सिंह क्वीरा 
                                                 मीडिया समन्वयक
                                          18वीं राज्य विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी कांग्रेस
Ad
यह भी पढ़ें -  UCC को लागू करने की तैयारी शुरू, रूल्स मेकिंग इंप्लीमेंटेशन कमेटी की पहली बैठक शुरू

More in Uncategorized

Trending News