Connect with us

उत्तराखण्ड

राजकीय महाविद्यालय कोटाबाग ने नशे के विरुद्ध लगाई चौपाल

वन क्षेत्राधिकारी श्री मदन सिंह बिष्ट जी ने किया वृक्षारोपण

राजकीय महाविद्यालय कोटाबाग में मनाया गया हरेला महोत्सव

कोटाबाग। राजकीय महाविद्यालय कोटाबाग नैनीताल में हरेला महोत्सव के अवसर पर वृक्षारोपण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में बतौर अध्यक्ष। वन क्षेत्राधिकारी में श्री मदन सिंह बिष्ट जी पधारेबतौर मुख्य अतिथि विख्यात पर्यावरणविद प्रोफेसर प्रभात उप्रेती जी पधारे अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में वन क्षेत्राधिकारी श्री मदन सिंह बिष्ट जी ने कहा कि हम सब का यह परम दायित्व है कि हम अपने जीवन में आवश्यक रूप से 21 वृक्ष लगाएं जिनमें से 19 वृक्ष हमारे जीते जी और दो वृक्ष हमारे जाने के बाद के लिए आवश्यक हैं।

वृक्षारोपण समय की मांग है, जल जंगल जमीन की रक्षा करना हमारा दायित्व है, हम सबको वृक्षारोपण के लिए जुनूनी होना पड़ेगा, तभी यह धरा हरी-भरी हो पाएगी, उनका कहना था कि प्रत्येक विद्यार्थी को प्रवेश के समय महाविद्यालय परिसर में एक पौधा रोपित करना चाहिए और जब तक वह महाविद्यालय में शिक्षा दीक्षा प्राप्त कर रहा है उसे उस पौधे की देखभाल भी करनी चाहिए। बतौर मुख्य अतिथि पधारे विख्यात पर्यावरणविद प्रोफेसर प्रभात उप्रेती जी ने कहा कि प्रकृति हम सबको तमाम सौगातें प्रदान करती है , लेकिन मनुष्य अपने स्वार्थ से प्रेरित होकर प्रकृति को ही नुकसान पहुंचाता है , बाढ़ ,महामारी ,प्राकृतिक आपदाएं, जंगली जानवरों का हमला यह सब मनुष्य की ही देन है।

प्रत्येक मनुष्य को चाहिए कि वह प्रकृति से प्रेम करें ,वृक्षों से प्रेम करें ,धरती से प्रेम करें, धरा से प्रेम करें ,जब भावनात्मक लगाव जल जंगल जमीन से होगा ,प्रकृति से होगा, वनों से होगा, तभी मनुष्य प्रकृति और हरेले के महत्व को समझेगा , और तभी वास्तविक अर्थों में यह हरेला महोत्सव भी सार्थक होगा ।प्राचार्य प्रोफेसर नवीन भगत जी ने कहा कि हम सबको हरेला महोत्सव में ही नहीं बल्कि अपने प्रत्येक विशेष दिनों में वृक्ष लगाने चाहिए । उनकी देखभाल करनी चाहिए । ना केवल वृक्षारोपण करना चाहिए बल्कि उनकी देखभाल भी आवश्यक है । 50 पौधे लगाने की बजाय 2 पौधे लगाने चाहिए लेकिन वह 2 पौधे इस तरह लगे कि वह वृक्ष रूप धारण कर ले ।

यह भी पढ़ें -  भरतनाट्यम नृत्यांगना स्वस्तिका जोशी को मिला उज्जैन में शशि कला प्रवीण सम्मान

प्रकृति हमें निशुल्क कई चीजें देती है लेकिन हम उसे बदले में सिवाय नुकसान के और कुछ नहीं दे पाते यह हमारा दायित्व है कि हम प्रकृति के लिए जन जागरूकता अभियान चलाएं । युवाओं को इस और प्रेरित करें तभी इस तरह के कार्यक्रमों को वास्तविक सार्थकता प्रदान होगी । कार्यक्रम का संचालन डॉक्टर बिंदिया राही सिंह ने किया ।

कार्यक्रम आयोजक डॉ हरीश चंद्र जोशी ने सभी आगंतुकों का धन्यवाद ज्ञापित किया। इस अवसर पर डॉ दिनेश व्यास ,डॉ सुनीता बिष्ट, डॉक्टर भावना जोशी , डॉक्टर आलोक पांडे डॉक्टर परितोष उपरेती, डॉक्टर विनोद कुमार उनियाल, श्री गोधन कार्की ,श्री महेंद्र नेगी ,श्री रमेश जी ,श्री सुंदर चंद जोशी, श्री राजा उपस्थित रहे कार्यक्रम में कुमारी रितु , गुंजन, प्रियंका, नीला कश्री , कमल बोरा अंजलि ,दिव्या, गुंजन शिखा साक्षी सहित सैकड़ों छात्र-छात्राओं ने उपस्थिति दर्ज कराई।

इससे पूर्व ग्राम सेल्सिया में ड्रग मुक्त देवभूमि अभियान के तहत चौपाल कार्यक्रम का आयोजन किया गया । जहां पर राजकीय महाविद्यालय कोटाबाग ड्रग मुक्त देवभूमि अभियान प्रकोष्ठ के तत्वाधान में एक चौपाल लगाई गई। जिसमें बतौर मुख्य अतिथि वन क्षेत्राधिकारी श्री मदन सिंह बिष्ट पधारें और कार्यक्रम की अध्यक्षता पर्यावरणविद प्रोफेसर प्रभात उप्रेती जी ने करी इस अवसर पर प्रोफेसर प्रभात उप्रेती जी की पुस्तक पर्वत में नशा ग्रामीणों में वितरित की गई ।

प्रोफ़ेसर प्रभात उप्रेती जी ने इस अवसर पर कहा कि नशा व्यक्ति को कर्तव्य से विमुख ,परिवार से दूर, समाज का दुश्मन बना देता है । अपने कर्तव्यों के लिए प्रत्येक मनुष्य को नशे से सदैव दूर रहना चाहिए । इस धरती के लिए, राष्ट्र के लिए समाज के लिए, हम सब जब तक दीवानगी की हद तक कार्य नहीं करेंगे तब तक हम अपने जीवन को सार्थक नहीं बना पाएंगे ।

यह भी पढ़ें -  विद्यालयी परीक्षा और प्रतियोगी परीक्षा की दूरी/फर्क कैसे कम हो : हरी मोहन ऐंठानी

उन्होंने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति को यह शपथ लेनी चाहिए कि वह कभी भी नशा नहीं करेगा। नशे ने पूरी देव भूमि को अपना गुलाम बना रखा है और यही कारण है कि देवभूमि में सब कुछ होने के बाद भी विकास नहीं हो पा रहा है। इसका कारण सिर्फ और सिर्फ नशा है । वन क्षेत्राधिकारी श्री मदन सिंह बिष्ट जी ने इस अवसर पर कहा कि युवाओं को बुजुर्गों को हम सभी को नशे से सदैव दूर रहना चाहिए।

नशा समाज की जड़ों को खोखला करता है । और यह नशा प्रगति पथ पर सबसे अधिक बाधक है, किसी भी प्रकार के नशे से समाज को सदैव हानि होती है। युवाओं को नशे की ओर कभी भी नहीं जाना चाहिए बल्कि उन्हें अपनी उर्जा को अपने ज्ञान को सकारात्मक और सृजनात्मक कार्यों में लगाना चाहिए ।

चौपाल कार्यक्रम का संचालन कार्यक्रम आयोजक डॉ हरीश चंद्र जोशी ने किया प्राचार्य प्रोफेसर नवीन भगत जी ने चौपाल कार्यक्रम में सभी ग्रामीणों का आभार व्यक्त किया । चौपाल कार्यक्रम में ग्राम सेल्सिया के 50 से अधिक ग्रामीणों ने प्रतिभाग किया, और अपनी जिज्ञासाओं को अतिथियों से पूछा और जिज्ञासाओं को शांत किया ।

चौपाल कार्यक्रम का उद्देश्य युवाओं को नशे से बाहर निकालना और ग्रामीणों को ड्रग मुक्त देवभूमि अभियान के प्रति जागरूक करना था । ताकि समाज से ,राष्ट्र से ,देवभूमि से , नशे को खत्म किया जा सके।

More in उत्तराखण्ड

Trending News