Connect with us

उत्तराखण्ड

टनकपुर मार्ग से आदि कैलाश यात्रा का हुआ शुभारंभ, तीर्थयात्रियों के चौथे दल को नए मार्ग से किया गया रवाना

चम्पावत -आदि कैलाश यात्रा एवं ओम पर्वत दर्शन के अभिलाषी तीर्थयात्री अब उत्तराखंड के सीमांत नगर टनकपुर से भी अपनी यात्रा का शुभारंभ कर सकेंगे। मां पूर्णागिरि धाम के प्रमुख पड़ाव के रूप में सुप्रसिद्ध टनकपुर नगर से आज आदि कैलाश यात्रा पर जाने वाले तीर्थ यात्रियों के चौथे दल को रवाना कर इस मार्ग का शुभारंभ कर दिया गया है। कुल 50 तीर्थयात्रियों का यह चौथा दल टनकपुर नगर से अपनी यात्रा का शुभारंभ कर जिला मुख्यालय चंपावत-लोहाघाट- पिथौरागढ़ होते हुए आदि कैलाश एवं ओम पर्वत के दर्शन करेगा। कुमाऊं मंडल आयुक्त दीपक रावत ने तीर्थयात्रियों के चौथे दल को रवाना करते समय जानकारी दी कि इस यात्रा में चंपावत जनपद के विभिन्न तीर्थ स्थलों को भी शामिल किया गया है। जिनके दर्शनों का लाभ भी तीर्थयात्री ले सकेंगे। हमें आशा है कि आगे चलकर इस मार्ग से ज्यादा से ज्यादा तीर्थयात्री यात्रा करना पसंद करेंगे। ज्ञात हो कि बीते वर्ष 2023 की 19 मार्च को उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने टनकपुर नगर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए टनकपुर से आदि कैलाश तीर्थयात्रा प्रारंभ करने की बात कही थी। जिसको पूरा करते हुए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के विधानसभा क्षेत्र चंपावत के टनकपुर नगर से आज इस यात्रा का शुभारंभ किया गया है। स्थानीय प्रशासन एवं पर्यटन विभाग की ओर से यात्रा की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई है। पहले दिन 18 मई को तीर्थयात्रियों का दल चंपावत के गोलू देवता मंदिर, बालेश्वर मंदिर एवं लोहाघाट के मायावती आश्रम का भ्रमण करेगा। इसके उपरांत यह दल पिथौरागढ़ में रात्रि विश्राम करेगा। 19 मई को कनालीछीना, ओगला, जौलजीबी होते हुए यह दल जलेश्वर मंदिर के दर्शन करने के उपरांत धारचूला में ठहरेगा जहां दल के सभी सदस्यों का मेडिकल चेकअप किया जाएगा। 20 मई को दल गुंजी, नाभिडांग की यात्रा कर रात्रि विश्राम गुंजी में ही करेगा। 21 मई को दल पार्वती सरोवर, आदि कैलाश, पार्वती मुकुट, पांडव पर्वत, गौरीकुंड, ओम पर्वत के दर्शन करेगा। इसके बाद यह दल अल्मोड़ा- काठगोदाम मार्ग से होता हुआ वापस हल्द्वानी पहुँचेगा। इस यात्रा का संचालन एवं प्रबंधन कुमाऊं मंडल विकास निगम, पर्यटन विभाग एवं एक निजी टूर ऑपरेटर कंपनी के द्वारा किया जा रहा है। इस चौथे दल में कुल 50 तीर्थ यात्री शामिल हैं जिनमें से 43 राजस्थान से चार उत्तर प्रदेश से एवं तीन कोलकाता से शामिल हुए हैं।

यह भी पढ़ें -  सीएम धामी ने दिल्ली अस्पताल में भर्ती पूर्व मुख्यमंत्री का जाना हालचाल

More in उत्तराखण्ड

Trending News