Connect with us

Uncategorized

लोकसभा चुनाव 2024: देहरादून से 122 पोलिंग पार्टियां रवाना, 1758 की रवानगी आज

देहरादून: लोकतंत्र के सबसे बड़े उत्सव लोकसभा चुनाव में मतदान रूपी आहुति डलवाने के लिए निर्वाचन आयोग की मशीनरी पूरी तरह तैयार है। मतदेय स्थलों पर पोलिंग पार्टियों की रवानगी का सिलसिला भी शुरू हो गया है। बुधवार को इसकी शुरुआत दूरस्थ क्षेत्र चकराता के अति दुर्गम मतदेय स्थलों की 122 पोलिंग पार्टियों की रवानगी के साथ की गई। बाकी क्षेत्रों की 1,758 पोलिंग पार्टियों को मतदान से एक दिन पहले गुरुवार को रवाना किया जाएगा।

पोलिंग पार्टियों के रवानगी स्थल महाराणा प्रताप स्पोर्ट्स कालेज में सुबह से ही गहमागहमी का माहौल था। चकराता के दूरस्थ क्षेत्रों की पोलिंग पार्टियां रवानगी की तैयारी में व्यस्त थीं, जबकि बाकी क्षेत्रों की पार्टियां निर्वाचन सामग्री प्राप्त कर रही थीं। पोलिंग पार्टियों की रवानगी के लिए स्वयं जिला निर्वाचन अधिकारी/जिलाधिकारी सोनिका अफसरों की टीम के साथ मौजूद रहीं। मुख्य निर्वाचन अधिकारी डा. बीवीआरसी पुरुषोत्तम भी जायजा लेने पहुंचे, ताकि पोलिंग पार्टियों को रवानगी के पहले मतदान में निष्पक्षता और पारदर्शिता का अंतिम पाठ पढ़ाया जा सके।
देहरादून जिले में टिहरी संसदीय सीट के सात विधानसभा क्षेत्रों, जबकि हरिद्वार सीट के तीन विधानसभा क्षेत्रों के लिए मतदान कराया जाएगा। जिले के 10 विधानसभा क्षेत्रों के अंतर्गत 1,880 मतदेय स्थल हैं और दूरी की बात की जाए तो चकराता क्षेत्र में 122 बूथ ऐसे हैं, जहां तक पहुंचने के लिए 10 किलोमीटर व इससे अधिक की भी पैदल दूरी तय करनी होगी। लिहाजा इन पार्टियों को मतदान से दो दिन पहले रवाना किया गया। पोलिंग पार्टियों की रवानगी के लिए महाराणा प्रताप स्पोर्ट्स कालेज में सभी व्यवस्थाएं पूरी कर ली गईं।
मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने स्ट्रांग रूम का निरीक्षण कर प्रशिक्षण हाल में भी विभिन्न व्यवस्था का जायजा लिया और मास्टर ट्रेनर को आवश्यक निर्देश दिए। बुधवार को पोलिंग पार्टियों की रवानगी के अलवा अन्य क्षेत्रों की 1,758 पार्टियों को प्रशिक्षण दिया गया और मतदान सामग्री वितरित की गई। इस अवसर पर जिला निर्वाचन अधिकारी/जिलाधिकारी सोनिका के साथ मुख्य विकास अधिकारी झरना कमठान, एडीएम जय भारत सिंह, सिटी मजिस्ट्रेट प्रत्यूष सिंह, एसडीएम हरगिरी गोस्वामी आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें -  जीरकपुर में स्कूटी से स्कूल जा रही छात्रा को ट्रक ने कुचला, सिर पर चढ़ा पहिया; मौके पर तोड़ा दम

पोलिंग पार्टियां ले गईं रिजर्व ईवीएम
चकराता के दूरस्थ क्षेत्रों में जाने वाली पोलिंग पार्टियां तीन ईवीएम के साथ रिजर्व ईवीएम भी अपने साथ ले गईं। जबकि रिजर्व ईवीएम सेक्टर मजिस्ट्रेट को अपने साथ ले जानी थी। कई पोलिंग पार्टी के पीठासीन अधिकारियों ने अधिक सामान होने पर निराशा व्यक्त की। उन्होंने बताया कि उन्हें 10 किलोमीटर पैदल पहाड़ में चढ़कर जाना है। पहले से ही उनके पास तीन ईवीएम मशीन और खुद का सामान है। ऐसे में रिजर्व ईवीएम होने से उनके पास सामान अधिक बढ़ गया और उन्हें सिर पर रखकर ईवीएम ले जानी पड़ी।

पोलिंग पार्टियों को समय से नहीं मिले वाहन
चकराता के दूरस्थ क्षेत्र में जाने वाली पोलिंग पार्टियों को समय से वाहन नहीं मिले। उन्होंने काफी देर तक बैठ कर इंतजार किया। इसके बाद वाहन मिले। चकराता के बहरावा बूथ को जाने वाले पोलिंग पार्टी के कर्मचारियों ने बताया कि वह करीब 20 मिनट से बैठे हैं, लेकिन वाहन नहीं आया।

न ही वाहन चालक का नंबर उन्हें नहीं दिया गया। हालांकि, करीब आधे घंटे बाद वाहन आने पर वह रवाना हुए। इसके अलावा कई वाहन छोटे होने पर पोलिंग पार्टी टीम को बैठने के लिए उचित जगह नहीं मिली। खासतौर पर कई वाहनों में करियर न होने से वाहन के अंदर की काफी जगह सामानों से पट गई।

प्रत्येक पार्टी के साथ दो सुरक्षाकर्मी रवाना
चकराता विधानसभा के दूरस्थ इलाकों में जाने वाली पार्टियों में एक पीठासीन अधिकारी, दो अपर पीठासीन अधिकारी, एक सहायक और दो सुरक्षाकर्मी साथ गए। इस दौरान हर पोलिंग पार्टी में कुल छह कर्मचारियों को रवाना किया गया। इसके अलावा जोनल और सेक्टर मजिस्ट्रेट के साथ भी सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए। पार्टियों की सुरक्षा के लिए हिमाचल प्रदेश की होमगार्ड की टीम आई। सुरक्षाकर्मचारियों ने पहले आराम किया और बाद में ड्यूटी के लिए रवाना हुए।

यह भी पढ़ें -  राजधानी दिल्ली में खुला पहला हेलमेट बैंक, बिना शुल्क दिए ले जाएं और 24 घंटे में कर जाएं वापस

जाम में फंसे सिटी मजिस्ट्रेट बुलेट से पहुंचे स्पोर्ट्स कालेज
रायपुर रोड पर यातायात जाम इन दिनों सबसे बड़ी समस्या बनी हुई है। खासकर ब्राह्मण चौक से महाराणा प्रताप स्पोर्ट्स कालेज चौराहे तक ज्यादा जाम लग रहा है। बुधवार को सिटी मजिस्ट्रेट प्रत्यूष सिंह भी जाम में फंस गए, स्थिति संभलते न देख वह अपने सरकारी वाहन से उतरे और बुलेट से महाराणा प्रताप स्पोर्ट्स कालेज पहुंचे। करीब एक घंटे बाद रायपुर थाना पुलिस जाम खुलवाया।

इसके बाद वाहन चालकों ने राहत की सांस ली और गंतव्य की ओर बढ़े। महाराणा प्रताप स्पोर्ट्स कालेज में लोकसभा चुनाव संपन्न करवाने के लिए प्रशासन ने स्ट्रांग रूम स्थापित किया है। पोलिंग पार्टियों का प्रशिक्षण, मतदान सामग्री वितरण, रवानगी की प्रक्रिया यहीं से हो रही है। इस कारण इस रोड पर पहले से कहीं अधिक वाहनों का दबाव बढ़ गया है। दिन में बार-बार यहां जाम लग रहा है।

बुधवार को दिन में करीब 11 बजे रायपुर रोड पर ब्राह्मण चौक से महाराणा प्रताप स्पोर्ट्स कालेज चौराहे तक जाम लगा रहा। इसका सबसे बड़ा कारण यह रहा कि चालकों ने जल्दबाजी में निकलने की होड़ में वाहन आड़े-तिरछे लगा लिए। इसी बीच सिटी मजिस्ट्रेट प्रत्यूष सिंह को स्पोर्ट्स कालेज में बने स्ट्रांग रूम का निरीक्षण करना था।

वह अपने सरकारी वाहन से निकले थे, लेकिन रास्ते में वह जाम में फंस गए। जाम नहीं खुला तो वह अपने सरकारी वाहन से उतरे और बुलेट से स्पोर्ट्स कालेज पहुंचे। वहीं, जाम लगने के कारण वाहन चालकों के साथ ही पैदल आवाजाही करने वालों को भी दिक्कत का सामना करना पड़ा। एक घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद रायपुर थाना पुलिस ने जाम खुलवाया और वाहन चालक अपने गंतव्य को रवाना हुए

Ad Ad Ad Ad Ad Ad

More in Uncategorized

Trending News