Connect with us

Uncategorized

चारधाम यात्रा 10 मई से हो रही शुरू, लेकिन अब भी तैयारियां अधूरी; उत्तराखंड में एंट्री गेट पर ही जाम से बुरा हाल

रुड़की : चारधाम यात्रा अभी शुरू भी नहीं हुई है, लेकिन उत्तराखंड के प्रवेश द्वार पर अभी से ही जाम लगने लगा है। सप्ताहांत पर तो मंगलौर से लेकर नारसन बार्डर तक जाम ही लगा रहा है। इस जाम से निपटने को प्रशासन ने अभी तक कोई तैयारी नहीं की है। यह हाल तब है, जब अभी चारधाम यात्रा शुरू नहीं हुई है। जाम लगने से हर कोई परेशान है।

पारा चढ़ने के साथ ही दिल्ली, एनसीआर, हरियाणा, पंजाब, राजस्थान समेत विभिन्न राज्यों से सैलानी उत्तराखंड की ओर रुख कर रहे हैं। कुछ शहरों में गर्मियों की छुट्टी होने और बोर्ड का परिणाम आने में समय है, ऐसे में लोग पर्यटन के लिए आने लगे हैं। वीकेंड पर तो यहां पर ट्रैफिक का दबाव दोगुना हो जाता है।
रविवार को भी दिल्ली-देहरादून राजमार्ग पर छपार टोल प्लाजा पर जबरदस्त भीड़ थी। रुड़की क्षेत्र की बात की जाए तो कोर कालेज के समीप रुड़की की ओर आने वाले अंडरपास पर ही रुक-रुककर वाहन आगे बढ़ते हैं। यहां भी जाम लगने से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता है।
मंगलौर फ्लाईओवर से लेकर गंगनहर पर बने पुल तक शनिवार व रविवार को जाम लगे रहता है। स्थिति यह है कि रविवार को तीन सौ मीटर की दूरी तय करने में डेढ़ घंटे तक का समय लग गया। पुलिस को एक कट को खोलकर गलत दिशा में यातायात को चालू करना पड़ा, तब कहीं जाकर रात में वाहनों का दबाव कम हो सका। अब चारधाम यात्रा शुरू हो जाएगी, लेकिन जिस तरह के इंतजाम हैं उसे देखकर तो यही लगता है कि लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ेगा।

यह भी पढ़ें -  चारधाम यात्रा मार्ग पर GMVN के गेस्ट हाउस मई-जून तक हाउसफुल, 13 करोड़ की हुई बुकिंग

सालियर के रहने वाले मोहसीन का कहना है कि ‘जाम लगने से आमजन को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। सालियर में बाईपास बन गया हैं। वहीं सालियर से लेकर सेना चौराहे तक भी जाम की स्थिति बनी रहती है। प्रशासन को जाम से निजात दिलाने की दिशा में काम करना चाहिए।’

महावीर एनक्लेव निवासी आशुतोष कुमार के अनुसार ‘शनिवार और रविवार को मंगलौर में लगने वाले जाम से हर कोई परेशान है। जाम इस कदर है कि स्थानीय लोगों बाहर निकलने सभी डर रहे हैं। यदि स्थिति यही रही तो चारधाम यात्रा शुरू होते ही यह परेशानी और बढ़ जाएगी। प्रशासन को इस दिशा में काम करना चाहिए।’

साउथ सिविल लाइंस के मानेन्द्र कौर के अनुसार, ‘जाम से व्यक्ति का पूरा शेड्यूल गड़बड़ा जाता है। मंगलौर, नारसन प्रदेश का प्रवेश द्वार है, यदि यहां से ही जाम की शुरुआत होती है तो यह पर्यटन के लिहाज से ठीक नहीं है। इसलिए अभी भी समय है यातायात व्यवस्था को दुरुस्त किया जाए।’

नगला कुबड़ा निवासी आदिश के अनुसार ‘जाम की समस्या लगातार बढ़ती जा रही है। इस पर अंकुश लगाया जाए। पुलिस प्रशासन ऐसे कदम उठाए, जिससे यात्रा सुगमतापूर्वक चल सके। नया हाईवे बन गया है। बावजूद इसके जाम लगना गलत है। प्रशासन को इस दिशा में सोचना चाहिए।’

हरिद्वार पुलिस अधीक्षक यातायात पंकज गैरोला का कहना है कि ‘मतदान हो चुका है। अब पूरा जोर यात्रा की तैयारियों को लेकर रहेगा। यातायात व्यवस्था बेहतर बनी रहे, इसके लिए अतिरिक्त फोर्स मांगी गई है। इसके अलावा एनएच की ओर से जो काम अधूरे हैं उनको पूरा करने के लिए कहा गया है। कोशिश की जा रही है कि किसी को जाम में न फंसना पड़े।

Ad Ad Ad Ad Ad Ad

More in Uncategorized

Trending News