शहीद चंद्रशेखर का पार्थिव शरीर कुछ ही देर में पहुंचेगा उनके आवास पर,देखें वीडियो

ख़बर शेयर करें

हल्द्वानी। सियाचिन में ऑपरेशन मेघदूत के दौरान लांस नायक चंद्रशेखर हर्बोला 29 मई 1984 को शहीद हो गए थे, 38 साल बाद उनके पार्थिव शरीर को सेना ने सियाचिन के एक बंकर से खोज निकाला। मौसम खराब होने के कारण उनके पार्थिव शरीर को सेना का हेलीकॉप्टर नहीं ला पाया था। एसडीएम हल्द्वानी मनीष कुमार सिंह ने जानकारी देते बताया कि खराब मौसम के चलते शहीद चंद्रशेखर हर्बोला का पार्थिव शरीर नहीं आ सकता, ऐसे में उम्मीद जताई जा रही है कि आज उनका पार्थिव शरीर हल्द्वानी पहुंच जायेगा। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी शहीद जवान चंद्रशेखर के अंतिम संस्कार में भाग लेंगे।

गौरतलब है कि 19 कुमाऊँ रेजीमेंट में जवान चंद्रशेखर हर्बोला का जिनकी मौत 29 मई 1984 को सियाचिन में ऑपरेशन मेघदूत के दौरान हो गई थी, बर्फीले तूफान में ऑपरेशन मेघदूत में 19 लोग दबे थे जिनमें से 14 जवानों का शव बरामद कर लिया गया था। लेकिन पांच जवानों का शव नहीं मिल पाया था जिसके बाद सेना ने चंद्रशेखर हर्बोला के घर में यह सूचना दे दी गई थी कि उनकी मौत बर्फीले तूफान की वजह से हो गई थी, उस दौरान चंद्रशेखर हर्बोला की उम्र सिर्फ 28 साल थी उनकी दोनों बेटियां बहुत छोटी थी परिजनों ने चंद्र शेखर हर्बोला का अंतिम संस्कार पहाड़ के रीति रिवाज के तहत किया था लेकिन अब 38 साल बाद उनका पार्थिव शरीर सियाचिन में खोजा गया है जो कि बर्फ के अंदर दबा हुआ था। पार्थिव शरीर का पूरे सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा। क्योंकि 38 साल पहले बिना पार्थिव शरीर के उनका अंतिम संस्कार किया गया था, वही चन्द्र शेखर हर्बोला की पत्नी शांति देवी के आंखों के आँसू अब सुख चुके हैं, उनको पता है कि उनके पति अब इस दुनिया में नहीं है, गम उनको सिर्फ इस बात का था की आखिरी समय में उनका चेहरा नहीं देख सकी वही उनकी बेटी कविता पांडे ने कहा कि पिता की मौत के समय वह बहुत छोटी थी ऐसे में उनको अपने पिता का चेहरा याद नहीं है अब उनका पार्थिव शरीर उनके घर पहुंचेगा तभी जाकर उनका चेहरा देख सकेंगे उनकी मौत का गम तो उनके पूरे परिजनों को है लेकिन खुशी इस बात की है कि उन्होंने अपनी जान देश की रक्षा के लिए गवाई हैं। चंद्रशेखर हर्बोला के अन्य परिजनों का कहना है कि सियाचिन में उनकी पोस्टिंग थी, ऑपरेशन मेघदूत के दौरान बर्फीले तूफान में 19 जवानों की मौत हुई थी
जिसमें से 14 जवानों के शव को सेना ने खोज निकाला था, लेकिन 5 शव को खोजना बाकी था एक दिन पहले ही चन्द्रशेखर हर्बोला और उनके साथ एक अन्य जवान का शव सियाचिन में मिल गया, और सेना द्वारा उनको यह सूचना दी गई कि चंद्रशेखर हर्बोला का पार्थिव शरीर मिला है। जिसका बैच संख्या 4164584 हैं।उनके पार्थिव शरीर को सरस्वती विहार धान मिल स्थित उनके आवास पर पहुंचने के बाद अंतिम संस्कार की कारवाई होगी।

यह भी पढ़ें -  डीआईजी कुमायूँ ने स्पा सेंटर पर कराई ताबडतोड छापेमारी…,