Connect with us

Uncategorized

बिजलीघर तो बना नहीं, लेकिन PM MODI से करवा दिया आधे-अधूरे प्रोजेक्ट का लोकार्पण

12 अक्टूबर को पीएम मोदी अपने एक दिवसीय दौरे पर उत्तराखंड आए थे। इस दौरान पीएम मोदी ने कई योजनाओं को शुभारंभ और लोकार्पण किया था। जिसमें से एक 132 केवी पिथौरागढ़-लोहाघाट-चंपावत ट्रांसमिशन लाइन प्रोजेक्ट भी था। लेकिन इस प्रोजेक्ट को लेकर चौंकाने वाली बात सामने आई है।

बिजलीघर बना नहीं, पीएम से करवा दिया प्रोजेक्ट का लोकार्पण
पीएम मोदी ने कुंमाऊं दौरे के दौरान पिथौरागढ़ से कुछ योजनाओं का ऑनलाइन लोकार्पण किया था। 132 केवी पिथौरागढ़-लोहाघाट-चंपावत ट्रांसमिशन लाइन का लोकार्पण भी पीएम मोदी ने 12 अक्टूबर को किया था। इस प्रोजेक्ट को लेकर चौंकाने वाला खुलासा हुआ है।

दरअसल लोकार्पण के चार महीने पहले ही इस लाइन पर 33 केवी की बिजली दौड़ाई जा रही है। जबकि ये लाइन 132 केवी की बनाई गई है। इस लाइन पर 132 केवी की सप्लाई इसलिए नहीं हो रही है क्योंकि इस प्रोजेक्ट के तहत बनने वाले सब स्टेशन का काम ही अभी तक शुरू नहीं हो पाया है।

आधे-अधूरे प्रोजेक्ट का पीएम से करवा दिया लोकार्पण
बता दें कि सब स्टेशन के निर्माण के लिए अभी टेंडर प्रक्रिया चल ही रही है। ऐसे में यहां सवाल ये उठता है कि आधे-अधूरे प्रोजेक्ट का प्रधानमंत्री से लोकार्पण क्यों करवाया गया ? लोहाघाट उपसंस्थान के मुख्य द्वार पर ताला लगा हुआ है। पिथौरागढ़ से लोहाघाट के बीच 42 किमी लंबी लाइन को 158 टावर के जरिए जोड़ा गया है। लेकिन अब तक एक से 69 टावर तक बिजली सप्लाई नहीं हो रही है।

साल 2011 में हुआ था उपसंस्थान के निर्माण का ऐलान
लोहाघाट में उपसंस्थान की चहारदीवारी का निर्माण तो हुआ है लेकिन बिजलीघर भवन का काम अभी तक शुरू भी नहीं किया गया है। बता दें कि साल 2011 में फरवरी के महीने में तत्कालीन सीएम डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने चंपावत दौरे पर आए थे। तब उन्होंने 132 केवी उपसंस्थान के निर्माण का ऐलान किया था।

यह भी पढ़ें -  देहरादून मसूरी जा रही कार गिरी खाई में, छह लोग घायल

More in Uncategorized

Trending News