Connect with us

Uncategorized

अरविंद केजरीवाल को पहली बार दी गई इंसुलिन, तिहाड़ जेल में लगातार बढ़ रहा था शुगर लेवल

नई दिल्ली: आबकारी नीति घोटाले से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में तिहाड़ जेल में बंद दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल को पहली बार इंसुलिन दी गई है।

आम आदमी पार्टी के सूत्रों के मुताबिक, जेल में सीएम केजरीवाल का शुगर लेवल लगातार बढ़ रहा था। ताजा जानकारी के मुताबिक, मुख्यमंत्री केजरीवाल का शुगर लेवल 320 तक गया था।
इससे पहले कल सोमवार को अरविंद केजरीवाल को राउज एवेन्यू कोर्ट से एक और झटका लगा। प्रतिदिन 15 मिनट वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से अपने चिकित्सकों से सलाह लेने की अनुमति देने की मांग की केजरीवाल की अर्जी को कोर्ट ने ठुकरा दिया था।

सीएम ने जेल अधीक्षक को लिखा पत्र, कहा- आपका बयान झूठा
मालूम हो कि इससे पहले केजरीवाल ने तिहाड़ जेल अधीक्षक को एक चिट्ठी लिखी है। इसमें उन्होंने जेल प्रशासन के बयान को गलत बताया है। आप ने पत्र को एक्स पर साझा किया है। केजरीवाल ने अपने पत्र में लिखा है, अखबार में आपका बयान पढ़ा। वो गलत है। आपका झूठा बयान पढ़ के बहुत दुख हुआ।

उन्होंने कहा, “जेल प्रशासन का पहला बयान ‘अरविंद केजरीवाल ने इंसुलिन का मुद्दा कभी नहीं उठाया’ सरासर झूठ है। मैं पिछले 10 दिन से लगातार इंसुलिन का मुद्दा उठा रहा हूं, दिन में कई बार उठा रहा हूं। मैंने ग्लूकोमीटर की रीडिंग दिखा कर बताया कि दिन में तीन बार पीक आती है और शुगर लेवल 250-320 के बीच जाता है।”

उन्होंने ऐसा कोई आश्वासन नहीं दिया। उन्होंने शुगर लेवल और मेरे स्वास्थ्य से जुड़ा पूरा डाटा मांगा और कहा कि डाटा को देखने और विश्लेषण करने के बाद वो अपनी राय देंगे। मुझे बहुत दुख है कि आपने राजनीतिक दबाव में आ कर झूठे और गलत बयान दिए हैं। मैं उम्मीद करता हूं कि आप कानून और संविधान का पालन करेंगे।

यह भी पढ़ें -  हाईस्कूल व इंटर में जो परीक्षार्थी अपने नंबर से संतुष्ट नहीं तो परीक्षा की कॉपी घर मंगवाकर देखें, यहां जानें पूरी प्रक्रिया

जेल प्रशासन के दावे का आधार महज डाइटीशियन का चार्ट: आतिशी
दिल्ली सरकार में मंत्री आतिशी ने ईडी और तिहाड़ जेल प्रशासन पर कोर्ट को गुमराह करने का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि केजरीवाल का शुगर लेवल बढ़ने को लेकर ना तो एम्स के विशेषज्ञों से सलाह की गई है और न ही केजरीवाल का ठीक से चेकअप कराया गया है।

केवल एक डाइटीशियन के चार्ट के आधार पर कोर्ट में कहा गया है कि अगर उन्हें इसके अनुसार खाना दिया जाए तो उनका शुगर लेवल ठीक रहेगा और उन्हें इंसुलिन की जरूरत भी नहीं होगी। आप मुख्यालय में प्रेसवार्ता कर आतिशी ने कहा कि यह सब कुछ एक सोची समझी साजिश के तहत हो रहा है

Ad Ad Ad Ad Ad Ad

More in Uncategorized

Trending News