Connect with us

Uncategorized

चंपावत जिलाधिकारी नें आगामी पूर्णागिरि मेले की तैयारीयों को लेकर अधिकारियों के साथ करी समीक्षा बैठक, व्यवस्था चकबंदी रखने के लिए निर्देश


रिपोर्ट – विनोद पाल
टनकपुर – उत्तर भारत का सुप्रसिद्ध मां पूर्णागिरि मेला 26 मार्च से प्रारंभ होकर 15 जून 2024 तक कुल 82 दिनों तक चलेगा

जिलाधिकारी चंपावत नवनीत पाण्डे ने सभी व्यवस्थाएं चाक चौबंद रखने के दिए निर्देश

श्रद्धालुओं की सुविधा हेतु इस वर्ष ठूलीगाड़ में एचडीएफसी बैंक का एटीएम होगा संचालित।
नमामि गंगे कार्यक्रम के तहत बूम घाट(ब्रह्मदेव घाट) में मां गंगा आरती का आयोजन किया जाएगा
बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया रहेंगी
संचार सुविधा हेतु बीएसएनएल का सचल मोबाइल टॉवर स्थापित होगा
मेला परिक्षेत्र में एन एच पीसी की सहायता से अग्नि सुरक्षा सयंत्र स्थापित होंगे

उत्तर भारत के सुप्रसिद्ध शक्तिपीठ मां पूर्णागिरि मेला 2024 को लेकर महत्वपूर्ण बैठक जिलाधिकारी नवनीत पांडे के अध्यक्षता में संपन्न हुई। प्रसिद्ध मां पूर्णागिरि मेला 26 मार्च से 15 जून तक कुल 82 दिनों तक आयोजित होगा। जिलाधिकारी ने कहा कि जनपद चंपावत की पहचान है मां पूर्णागिरि का मेला, जिसे गत वर्षो की अपेक्षा और अधिक बेहतर बनाया जाएगा। गत वर्ष में जो कमियां रही है, इस वर्ष उसमें त्रुटिरहित सुधार लाया जाएगा।

पूर्णागिरि मेले की तैयारियों व व्यवस्थाओं को दुरुस्त कराने को लेकर मंगलवार को जिलाधिकारी ने तहसील सभागार में सबंधित विभागों के अधिकारियों के साथ बैठक की। उन्होंने अधिकारियों को मेले से संबंधित सभी व्यवस्थाओं को शीघ्रता से पूरा करने के निर्देश दिए।
बैठक में जिलाधिकारी ने बिजली, पानी, स्वास्थ्य, सड़क,स्वच्छता के साथ ही श्रद्धालुओं की सुविधाओं के लिए सभी व्यवस्थाएं चाक चौबंद रखने के निर्देश दिए। अपर मुख्य अधिकारी जिला पंचायत को मेला परिक्षेत्र में तथा नगर पालिका टनकपुर एवं नगर पंचायत बनबसा को अपने-अपने क्षेत्रों में लाइट, पार्किंग तथा साफ-सफाई की पुख्ता व्यवस्था रखने को कहा। जिलाधिकारी ने कहा कि इस वर्ष के मेले में विगत वर्षों से और अधिक बेहतर सुविधाएं श्रद्धालुओं को उपलब्ध कराई जाएगी। इस हेतु उन्होंने सभी विभागों को निर्देश दिए।
मेला परिक्षेत्र में ठूलीगाड़, भैरव मंदिर, काली मंदिर और टुन्यास आदि स्थानों में स्वास्थ्य सुविधाओं के अतिरिक्त पर्याप्त संख्या में नर्से व मेडिकल स्टाफ उपलब्ध रहेंगे। इसके साथ ही दो अतिरिक्त एम्बुलेंस मेला अवधि के दौरान क्षेत्र में संचालित होगी। मेले में आने वाले श्रद्धालुओं को शुद्ध/ स्वच्छ पेयजल हेतु प्याऊ/ स्टैंड पोस्ट के साथ ही दो टैंकरों के माध्यम से तथा पर्याप्त मात्रा में पेयजल उपलब्ध होगा। मेले से पूर्व पुराने टैंकों के अतिरिक्त 20 हजार लीटर क्षमता के अतिरिक्त टैंक मेला क्षेत्र में स्थापित किए जाएंगे। अधिशासी अभियंता जल संस्थान ने बताया कि मेला क्षेत्र में पेयजल हेतु 34 हैंडपंप स्थापित है। सभी संचालित है। मेला परिक्षेत्र में 247 उपभोक्ताओं को पेयजल कनेक्शन दिए गए हैं और पेयजल व्यवस्था बेहतर व सुचारू है। जिसमें किसी भी प्रकार की कमी नहीं है।
प्रत्येक शासकीय स्थानो यथा थाना, चौकी, मेडिकल कैंप आदि स्थानों में अग्निशमन सिस्टम लगाए जाएंगे। इसके अतिरिक्त ठूलीगाड़, भैरव मंदिर, काली मंदिर में अग्निशमन विभाग की टीमें तैनात होंगी। साथ ही दुकानों में अग्निशमन सयंत्र उपलब्ध कराए जाएंगे। जिन टैक्सियों को अनुमति प्राप्त होगी उन्ही टैक्सीयों का संचालन मंदिर परिक्षेत्र में होगा। मेले के दौरान उत्तराखंड परिवहन निगम की टनकपुर से ठूलीगाड़ तक अतिरिक्त बसें संचालित की जायेंगी।
मेले के दौरान कोई भी अप्रिय घटना या दुर्घटना ना हो इस हेतु पुलिस वह परिवहन विभाग आपसी समन्वय स्थापित कर कार्य करें।
उन्होंने वन विभाग को निर्देश दिए कि नमामि गंगे कार्यक्रम के तहत ब्रह्मदेव घाट में मेले के उद्घाटन के दिन व नवरात्रि में मां गंगा आरती का आयोजन किया जाए। साथ ही उन्होंने कहा कि मां गंगा आरती नियमित हो इस हेतु भी विशेष प्रयास किए जाएं। उन्होंने जिला पंचायत को निर्देश दिए की जहां जहां भंडारे लगने हैं उन स्थानों को चिन्हित कर लिया जाए और नियमानुसार अनुमति दी जाए। भोजन की नियमित जांच हो लोगों को शुद्ध भोजन व पेयजल मिले यह सुनिश्चित किया जाए।
उन्होंने दुग्ध प्रबंधक को निर्देश दिए की मांग के अनुरूप दुग्ध उत्पाद की आवश्यकता उपलब्ध कराई जाए।
उन्होंने पीडब्ल्यूडी को निर्देश दिए की सड़क वह पैदल मार्ग में जो भी कार्य होने हैं वह कार्य तुरंत किए जाएं।
बांटनागाड़ में बरसात से पूर्व सुधारीकरण के जो भी कार्य किए जाने वह भी समय से कर लिए जाएं।
सुरक्षा व्यवस्था पर चर्चा करते हुए कहा की मेला परिक्षेत्र में पुलिस सुरक्षा व्यवस्था मजबूत हेतु पुलिस के अतिरिक्त होमगार्ड, पीआरडी स्वयं सेवक तैनात कर लिये जाए।
इस संबंध में पुलिस अधीक्षक ने बताया कि मेले के दौरान होमगार्ड, 50 पीआरडी वह पुलिस के जवानों की तैनाती की जाएगी।
चरण मंदिर के पास दुर्घटना की संभावनाओं को देखते हुए जिलाधिकारी ने लोक निर्माण विभाग के पी आई यू खंड को क्रैश बैरियर पैराफिट लगाए जाने के निर्देश दिए ताकि कोई दुर्घटना ना हो। पुलिस विभाग को यात्रियों को सूचित किए जाने हेतु चार स्थानो बूम घाट, ठूलीगाड़, भैरव मंदिर व काली मंदिर में लाउडस्पीकर स्थापित किए जाने के निर्देश दिए।
संचार व्यवस्था हेतु जिलाधिकारी ने बीएसएनएल से आए अधिकारी को निर्देश दिए कि संचार व्यवस्था बेहतर से बेहतर हो इस हेतु मोबाइल टावर जहा स्थापित किए जाने हैं तो वह भी स्थापित कर लिए जाए। उन्होंने कहा 24 घंटे क्षेत्र में नेटवर्क की सुविधा यात्रियों को मिलनी चाहिए इस हेतु अतिरिक्त टावर लगा लिए जाएं। साथ ही कोटकेंद्री में जो मोबाइल टावर स्थापित होना है। उसका कार्य मेला प्रारंभ होने से पहले ही पूर्ण कर लिया जाए।
सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए मेला क्षेत्र में सीसीटीवी अधिक संख्या में लगाई जाए।
उन्होंने कहा कि टनकपुर से पूर्णागिरि धाम तक मार्ग सूव्यवस्थित हो, मार्ग में लाइटिंग, पेयजल, शौचालय, स्नानागार, आवास, स्वास्थ्य, संचार आदि की पूर्ण व्यवस्था हो इस हेतु अभी से तैयारी कर ली जाए।
बैठक में पुलिस अधीक्षक अजय गणपति, विधायक प्रतिनिधि दीपक रजवार, मां पूर्णागिरी मंदिर समिति के अध्यक्ष किशन तिवारी, पूर्व अध्यक्ष भुवन पांडे, उप जिलाधिकारी टनकपुर आकाश जोशी, पुलिस क्षेत्राधिकारी शिवराज सिंह राणा सहित मंदिर समिति के सदस्य, टैक्सी समिति के सदस्य साथ ही अन्य विभागों के अधिकारी व जनप्रतिनिधि उपस्थित रहे।

Ad Ad Ad Ad Ad Ad
यह भी पढ़ें -  स्वादिष्ट ही नहीं अनेक औषधीय गुणों से भरा है काफल

More in Uncategorized

Trending News