Connect with us

Uncategorized

लोकसभा चुनाव 2024: भारत-नेपाल की सीमा मतदान से इतने घंटे पहले होगी सील, पड़ोसी देश नेपाल भी करेगा चुनाव में सहयोग

पिथौरागढ़: भारत में लोकसभा चुनाव के निर्वाचन तिथि से 72 घंटे पूर्व नेपाल सीमा सील हो जाएगी। इस दौरान महत्वपूर्ण कार्य के लिए पास जारी होंगे। इस दौरान सूचनाओं के आदान-प्रदान और आचार संहिता पालन में नेपाल प्रशासन सहयोग करेगा।

सूचनाओं के आदान-प्रदान के लिए भारत और नेपाल के उच्च प्रशासनिक अधिकारियों का वाट्सएप ग्रुप बनाया जाएगा। यह निर्णय भारत-नेपाल सीमा समन्वय समिति की जिलाधिकारी पिथौरागढ़ और जिलाधिकारी दार्चुला किरण जोशी की संयुक्त अध्यक्षता में हुई। बैठक में विभिन्न बिंदुओं पर चर्चा की गई।
प्रमुख विषय भारत में लोकसभा निर्वाचन, भारतीय मतदाता परिचय पत्र रखने वाले नेपाली नागरिक, नशीली दवा, प्रतिबंधित वस्तुओं की तस्करी, मानव तस्करी, स्थानीय मुद्दे, सहयोगी एजेंसियों के बीच समन्वय, धारचूला में काली नदी के कटाव की समस्या का समाधान, रीवर राफ्टिंग, चुनाव के दौरान विशेष सामाजिक कार्यों के लिए विशेष अनुमति, दोनों देशों के बीच अवैध आवाजाही, निर्माण कार्य के दौरान काली नदी के प्रभावित प्रवाह को सामान्य करने, टायर ट्यूब के सहारे काली नदी से मादक पदार्थ व प्रतिबंधित वस्तुओं पर रोक व दोनों देशों की सुरक्षा को लेकर चर्चा की गई।
इससे पूर्व अधिकारियों के पहुंचने पर डीएम रीना जोशी ने नेपाल की प्रमुख जिल्लाधिकारी दार्चुला किरण जोशी और बैतड़ी भीमकांत शर्मा सहित अन्य अधिकारियों का स्वागत किया। नेपाल के जिलाधिकारियों ने डीएम पिथौरागढ़ और डीएम चंपावत नवनीत पांडे को स्मृति चिह्न देकर स्वागत किया। इस अवसर पर बैठक पिथौरागढ़ में आमंत्रित करने पर धन्यवाद ज्ञापित किया।

नेपाल के अधिकारियों ने मादक पदार्थों की तस्करी का मुद्दा रखा
बैठक में नेपाल के अधिकारियों द्वारा मादक पदार्थों की अवैध तस्करी का मामला रखा। जिस पर दोनों देशों के प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा मादक पदार्थों की तस्करी रोकने और नशामुक्ति के लिए एक दूसरे को सहयोग करने पर सहमति बनी। इसके लिए संयुक्त रूप से कार्यवाही करने का निर्णय लिया गया।

यह भी पढ़ें -  चारधाम यात्रा के लिए कब से होगी हेली टिकटों की बुकिंग, जानिए यहां

बनबसा बांध पर एकत्रित आरबीएम को लेकर चर्चा
बैठक में सिंचाई विभाग भारत द्वारा बनबसा डैम के पास जमा आरबीएम को लेकर चर्चा की गई। जिसमें आरबीएम निकासी के लिए बांध की सुरक्षा भी हो और भारत की मानव बस्तियों को खतरा नहीं हो इसके लिए आपसी समन्वय स्थापित कर संयुक्त निरीक्षण करने का निर्णय लिया गया, ताकि रीवर ट्रेनिंग की जा सके।

भ्रामक सूचनाओं पर भी रहेगी नजर
सीमा पर वनों के अवैध कटान पर दोनों देशों के अधिकारी नजर रखेंगे और एक दूसरे का सहयोग करेंगे जिसके लिए दोनों देशों में सघन चेंकिंग अभियान चलाया जाएगा। भ्रामक सूचनाओं पर दोनों देशों के अधिकारी समन्वय बनाएंगे।

भारतीय मतदाता पहचान पत्र पर हुई चर्चा
डीएम पिथौरागढ़ ने कहा कि नेपाल से ब्याह कर भारत आयी महिलाओं के पहचान पत्र नहीं बन पा रहे हैं। इसके लिए दोनों देशों के अधिकारियों ने अपने-अपने उच्चाधिकारियों से वार्ता करने का निर्णय लिया।

बैठक में उपस्थित अधिकारी
डीएम चंपावत नवनीत पांडे, पुलिस अधीक्षक पिथौरागढ़ रेखा यादव, पुलिस अधीक्षक चंपावत अजय गणपति, डीएफओ पिथौरागढ़ आशीष सिंह, एडीएम डा. एसके बरनवाल, संयुक्त मजिस्ट्रेट पिथौरागढ़ आशीष कुमार मिश्रा, एसडीएम डीडीहाट श्रेष्ठ गुनसोला, एसडीएम धारचूला मंजीत सिंह, एसएसबी 11वीं वाहिनी डीडीहाट मधुकर अमिताभ, सेनानी 55वीं वाहिनी, पांचवीं वाहिनी, कस्टम अधीक्षक राजेश भोला दत्त पांडेय, अधीक्षण अभियंता लोनिवि एबी कांडपाल, सिंचाई विकास श्रीवास्तव, नेपाल से डीएम बैतड़ी भीमकांत शर्मा, डीएम दार्चुला किरण जोशी, सशस्त्र प्रहरी बैतड़ी के हर्कराज पंत, सशस्त्र प्रहरी दार्चुला के शिव बहादुर सिंह, दीपक गिरि प्रहरी नायब उपनिरीक्षक, पंकज चंद दार्चुला, प्रहरी के कृष्ण सिंह पुजारा बैतड़ी, देवेंद्र कुमार थापा प्रमुख अनुसंधान अधिकृत दार्चुला, दिगंबर गिरी, बैतड़ी के गोपाल सिंह बोहरा, सीमा प्रशासक कार्यालय व्यास, छांगरु दार्चुला सागर जोशी आदि।

Ad Ad Ad Ad Ad Ad

More in Uncategorized

Trending News